Call Us:

+91-11-22414049, 22453724

Email Us:

info@wowindia.info

bookmark_borderPolycystic Ovary Syndrome

Polycystic Ovary Syndrome

An article by Dr Deepika Kohli – a well-known Dietitian/Nutritionist in Mayur Vihar Ph-I, Delhi and has an experience of 26 years in this field. Ms. Deepika Kohli practices at Deepika’s Diet Clinic in Mayur Vihar Ph-I, Delhi, Jeevan Anmol Hospital in Mayur Vihar Ph-I, Delhi and Life Care Centre in Preet Vihar, Delhi. She is a Certified Diabetes Educator ) from Pfizer in 2011. She is a member of Indian Dietetic Association. Some of the services provided by the doctor are: Diabetic diet, PCOD Diet, Weight Gain Diet Counselling, Therapeutic Diet’s and Weight Loss Diet Counselling etc. Must read… Dr. Purnima Sharma – Sec. Gen. WOW India & Editor of WOW Website…

* *Understanding Polycystic Ovary Syndrome

(PCOS): Symptoms and Dietary Management* *

Polycystic Ovary Syndrome (PCOS) is a hormonal disorder that affects people with ovaries, typically during

Dr. Deepika Kohli
Dr. Deepika Kohli

their reproductive years. PCOS is characterized by an imbalance of reproductive hormones, which can lead to a

variety of symptoms and potential complications. While the exact cause of PCOS is not fully understood, factors such as genetics, insulin resistance, and inflammation are believed to play a role in its development.

PCOS is a complex condition that involves a combination of hormonal imbalances, metabolic disturbances, and reproductive issues. One of the hallmarks of PCOS is the presence of small fluid-filled sacs (cysts) on the ovaries, which can interfere with normal ovulation and menstrual cycles.

* *Symptoms of PCOS in Young Girls* *

PCOS can present differently in individuals, but common symptoms in young girls may include:

  1. * *Irregular Menstrual Cycles**: Girls with PCOS may experience irregular periods or may go for long stretches without menstruating.
  2. * *Excessive Hair Growth (Hirsutism)**: PCOS can cause increased hair growth on the face, chest, back, or other areas of the body due to elevated levels of androgens (male hormones).
  3. * *Acne**: Hormonal imbalances associated with PCOS can lead to acne breakouts, particularly along the jawline and chin.
  4. ** Weight Gain**: Many girls with PCOS struggle with weight management, as insulin resistance and hormonal imbalances can contribute to weight gain, especially around the abdomen.

* *Dietary Management for PCOS**

Diet plays a crucial role in managing PCOS symptoms and promoting overall health. A wellbalanced diet can help regulate blood sugar levels, reduce insulin resistance, manage weight, and improve hormonal balance. Here’s a detailed look at dietary recommendations for individuals with PCOS:

  1. * *Emphasize Whole Foods**: Focus on whole, minimally processed foods such as fruits, vegetables, whole grains, lean proteins, and healthy fats. These foods provide essential nutrients and fiber while minimizing added sugars and refined carbohydrates.
  2. * *Choose Low-Glycemic Index (Gl)

Carbohydrates**: Opt for carbohydrates that have a low glycemic index, which means they cause a slower and more gradual increase in blood sugar levels. Examples include whole grains (e.g., quinoa, barley), legumes, fruits, and non-starchy vegetables.

  1. * *Balance Macronutrients**: Aim for a balanced intake of macronutrients, including carbohydrates, proteins, and fats, to help stabilize blood sugar levels and promote satiety. Include lean proteins such as poultry, fish, tofu, and legumes in your meals.
  2. * *Healthy Fats**: Incorporate healthy fats such as avocados, nuts, seeds, and olive oil into your diet. These fats can help improve insulin sensitivity and reduce inflammation.
  3. * *Limit Added Sugars and Refined

Carbohydrates**: Minimize consumption of foods and beverages high in added sugars, refined carbohydrates, and processed foods. These foods can cause spikes in blood sugar levels and exacerbate insulin resistance.

  1. * *Moderate Dairy Intake**: Some research suggests that high dairy intake may worsen PCOS symptoms due to its potential impact on insulin levels and hormonal balance. Choose dairy products in moderation and opt for low-fat or non-dairy alternatives if needed.
  2. * *Stay Hydrated**: Drink plenty of water throughout the day to stay hydrated and support overall health.
  3. * *Manage Portions**: Pay attention to portion sizes to avoid overeating, which can contribute to weight gain and insulin resistance.

In conclusion, PCOS is a complex hormonal disorder that can present with a variety of symptoms in young girls. Dietary management plays a crucial role in managing PCOS symptoms and promoting overall health. By emphasizing whole foods, choosing low-glycemic index carbohydrates, balancing macronutrients, and limiting added sugars and refined carbohydrates, individuals with PCOS can support hormone balance, regulate blood sugar levels, and improve their overall quality of life. Consulting with a healthcare provider or registered dietitian can provide personalized guidance and support for managing PCOS through diet and lifestyle modifications.

bookmark_borderUnderstanding Hypertension

Understanding Hypertension

Dr. Deepika Kohli
Dr. Deepika Kohli

Understanding Hypertension – an article by Dr. Deepika Kohli – a well-known Dietitian/Nutritionist and a Certified Diabetes Educator from Pfizer in 2011. She is a member of Indian Dietetic Association. Must read… Dr. Purnima Sharma, Secretary General & Editor of WOW Website…

Understanding Hypertension:

Definition, Normal vs. Elevated Values, and Dietary Management

Hypertension, commonly known as high blood pressure, is a chronic medical condition characterized by elevated blood pressure levels in the arteries. Blood pressure is the force of blood pushing against the walls of the arteries as the heart pumps blood throughout the body. Hypertension is a significant risk factor for cardiovascular disease, including heart attack, stroke, and other complications, making its management

crucial for overall health.

**Definition of Hypertension* *

Hypertension is typically defined as blood pressure measurements consistently higher than normal. Blood pressure is measured in millimetres of mercury (mmHg) and is recorded as two numbers:

  1. * *Systolic Pressure**: The first (top) number represents the pressure in the arteries when the heart beats or contracts to pump blood.
  2. **Diastolic Pressure**: The second (bottom) number represents the pressure in the arteries when the heart is at rest between beats.
  • *Normal vs. Elevated Blood Pressure Values* *

The American Heart Association (AHA) classifies blood pressure values into the following categories:

 * *Normal**: Systolic pressure less than 120 mmHg and diastolic pressure less than 80 mmHg.

  • * *Elevated**: Systolic pressure between 120-129 mmHg and diastolic pressure less than 80 mmHg.
  • * *Hypertension Stage 1**: Systolic pressure between 130-139 mmHg or diastolic pressure between 80-89 mmHg.
  • * *Hypertension Stage 2**: Systolic pressure 140 mmHg or higher or diastolic pressure 90 mmHg or higher.
  • * *Hypertensive Crisis**: Systolic pressure higher than 180 mmHg and/or diastolic pressure higher than 120 mmHg.

It’s important to note that elevated blood pressure values may require lifestyle modifications and close monitoring to prevent progression to hypertension.

  • *Dietary Management for Hypertension* *

Diet plays a crucial role in managing hypertension by reducing blood pressure levels and lowering the risk of cardiovascular complications. Here’s a detailed look at dietary recommendations for individuals with hypertension:

  1. * *DASH Diet**: The Dietary Approaches to Stop Hypertension (DASH) diet is a well-established dietary pattern that emphasizes fruits, vegetables, whole grains, lean proteins, and low-fat dairy products while limiting saturated fats, cholesterol, and sodium. The DASH diet has been shown to significantly lower blood pressure levels.
  2. * *Limit Sodium Intake**: Excessive sodium intake can contribute to high blood pressure. Aim to limit sodium consumption by avoiding processed and packaged foods, which are often high in sodium, and using herbs, spices, and other flavourings to season meals instead of salt.
  3. * *Increase Potassium-Rich Foods* * Potassium helps counteract the effects of sodium on blood pressure. Include potassium rich foods such as bananas, oranges, spinach, sweet potatoes, and beans in your diet.
  4. * *Magnesium-Rich Foods**: Magnesium plays a role in regulating blood pressure. Foods high in magnesium include leafy green vegetables, nuts, seeds, whole grains, and legumes.
  5. * *Limit Alcohol Consumption**: Excessive alcohol consumption can raise blood pressure levels. If you choose to drink alcohol, do so in moderation (up to one drink per day for women and up to two drinks per day for men).
  6. * *Maintain a Healthy Weight**: Excess weight is a risk factor for hypertension. Aim to achieve and maintain a healthy weight through a balanced diet and regular exercise.
  7. * *Monitor Caffeine Intake**: While moderate caffeine intake is generally safe for most people, excessive caffeine consumption may temporarily raise blood pressure levels. Limit caffeine intake from sources such as coffee, tea, and energy drinks if needed.
  8. * *Be Mindful of Portion Sizes**: Pay attention to portion sizes to avoid overeating, which can contribute to weight gain and high blood pressure.

In conclusion, hypertension is a common medical condition characterized by elevated blood pressure levels in the arteries. Dietary management plays a crucial role in controlling blood pressure and reducing the risk of cardiovascular complications. By following a heart-healthy diet rich in fruits, vegetables, whole grains, lean proteins, and low-fat dairy products while limiting sodium, alcohol, and processed foods, individuals with hypertension can support overall heart health and improve their quality of life. It’s essential to work closely with a healthcare provider or registered dietitian to develop a personalized dietary plan tailored to individual needs and preferences.

bookmark_borderReport of 25th August Program

Report of 25th August Program

हर वर्ष की भाँति इस वर्ष भी शुक्रवार 25 अगस्त को दिल्ली के पटपडगंज स्थित IPEX भवन में WOW India द्वारा स्वतन्त्रता दिवस और सावन महीने के सम्मान के लिए एक रंगारंग कार्यक्रम का आयोजन किया गया | कार्यक्रम से पूर्व Bone merrow density और hemoglobin checkup  के लिए कैम्प लगाया गया | साथ ही डॉ अम्बुजा शर्मा ने Dental checkup भी किया | ये तीनों ही टैस्ट निशुल्क थे |

इसके बाद सांस्कृतिक कार्यक्रम आरम्भ हुआ | सबसे पहले कार्यक्रम के स्पॉन्सर Cloud 9 hospitals की CEO डॉ प्रिया सिंह ने वर्तमान में गर्भवती महिलाओं और नवजात शिशुओं की देखभाल पर जोर देते हुए बताया कि Cloud 9 किस तरह इस दिशा में कार्य कर रहा है | दूसरे स्पॉन्सर IPCA की ओर से डॉ आभा शर्मा ने भी महिलाओं के स्वास्थ्य के विषय में ही बात की | उसके बाद संस्था की General Secretary डॉ पूर्णिमा शर्मा ने सावन के महत्त्व, आज़ादी और महिलाओं के स्वास्थ्य के सन्दर्भ में संस्था की नीतियों पर प्रकाश डाला | संस्था की Chairperson डॉ शारदा जैन ने भी महिलाओं के स्वास्थ्य के विषय में ही बात की – क्योंकि Delhi Gynaecologist Forum की Sister Organization के रूप में WOW India का गठन ही महिलाओं को उनके स्वास्थ्य की दिशा में जागरूक करने के उद्देश्य से हुआ था और हम लोग इसीलिए समय समय पर हेल्थ चेकअप कैम्प भी लगाते रहते हैं नियमित रूप से |

WOW India की Governing Body Members की प्रस्तुति – आज़ादी, सावन और राखी – प्रथम प्रस्तुति थी जिसे खूब सराहा गया – इसकी Script, Narration, Song selection & Direction संस्था की Cultural Secretary श्रीमती लीना जैन का था और Editing-Mixing-Compilation किया था डॉ पूर्णिमा शर्मा ने |

फिर शुरू हुआ Group dance competition और मल्हार का दौर… जिसमें First position पर WOW India की IPEX Branch रही, Second position पर रही WOW India की Indraprastha Branch और Third position पर रही WOW India की Doctors Branch इसके अतिरिक्त सभी की प्रेरणास्रोत श्रीमती विमलेश अग्रवाल जी को उनकी ब्रांच योजना विहार की सदस्यों के साथ Special Performance के लिए Consolation Prize दिया गया |

 

कार्यक्रम का मुख्य आकर्षण रहा जनशिक्षा और संस्कार केन्द्र वसुन्धरा के बच्चों का आकर्षक समूह नृत्य | इन सभी बच्चों और इनकी शिक्षिकाओं को WOW India की इन्द्रप्रस्थ ब्रांच की सदस्य श्रीमती सुषमा अग्रवाल की ओर से स्कूल बैग्स उपहार स्वरूप दिए गए |

कार्यक्रम में Delhi Gynaecologist Forum की ओर से WOW India की Secretary General डॉ पूर्णिमा शर्मा को Life Time Achievement Award भी प्रदान किया गया |

कार्यक्रम में मुख्य अतिथि और प्रतियोगिता की निर्णायक की भूमिका में थीं प्रसिद्ध भरतनाट्यम नृत्यांगना विल्का गोगिया…

कार्यक्रम का सफल संचालन किया श्रीमती लीना जैन ने… कार्यक्रम की समाप्ति पर लकी ड्रा भी निकाला गया और संस्था की Senior Vice President श्रीमती बानू बंसल जी के धन्यवाद प्रस्ताव के साथ कार्यक्रम सम्पन्न हो गया – लेकिन बाद में बहुत देर तक सावन की धूम मची रही…

कार्यक्रम में संस्था के सदस्यों की बड़ी तादाद में उपस्थिति रही जिसके कारण कार्यक्रम सफल हो पाया – इसके लिए सभी सदस्यों का संस्था की ओर से आभार…

bookmark_borderTwo beautiful short poems

Two beautiful short poems

Editor’s note: These two beautiful short poems are written by Viramya Mishra of Manav Bharati Public School, Dehradun – a class 12th

science student… Must read… Dr. Purnima Sharma, Sec. Gen. WOW India

Yes! You can

Yes, you can
Yes, you can

Covering the road of my own destiny, 

Wondering where would we land? 

Thinking of tremendous fantasies, 

In the hope of “Just if I can”.

 

Nothing bothers if your aim is one! 

Focus on the goal instead of saying

“Just if I would have won!”

 

Running on the roads full of rattraps, 

Wondering why are they here? 

Just kick them off as if they are craps! 

That will be the action which will be fair. 

 

The Wind

Your breezy strokes are touching me

The wind
The wind

as if I would fly, 

The feeling which I get after waving hair

seems like a beautiful lie. 

Your invisibility makes me curious

as if you are a miracle, 

But your breezy magic is nothing less

than throwing away an emotional obstacle.

            Viramya Mishra, Class: – 12th PCB

bookmark_borderStop Domestic violence

Stop Domestic violence

This story is written by Viramya Mishra, a class 12th Science student of Manava Bharti India International School, Dehradun. I liked it, that’s why I am

Viramya Mishra
Viramya Mishra

publishing it here. We should not forget that such incidents are happening even today’s world. See Viramya’s command on language, her style and her hold on the Subject… and her emotions towards the issue… Dr. Purnima Sharma, Secretary General, WOW India

A short story on Domestic violence

It was the morning of 18th September 1985. Vaidehi was following her daily routine by watering the plants in her garden. It was the part of a daily chores, waking up early in the morning, cleaning the house as well as dishes, watering the plants, feeding her pet birds (Canary and Talking Parrot). Parrot would daily say thank you to Vaidehi as she feeds it with some Chana dal and Chili. Canary would chirp, this was her form of saying thank you. Now canary and parrot were the only ones in her whole house who would at least say thanks to her.

Vaidehi lived with her parents, uncle and aunt. Vaidehi’s father was an extremely rude, angry man. He never used to understand Vaidehi’s emotions. As Being a father there was a not even a single emotion he had for his daughter. He was totally emotionless man when it comes to Vaidehi. Her aunt and uncle were same as Vaidehi’s father. “Why would we care about this trash if her own blood doesn’t? ” These were used to be the words of them. This situation was not since Vaidehi’s childhood but it happened because Vaidehi was growing up and she was also the child who would get the property of her grandfather. These all were too minor things in front of the case which used to be the main mandatory part of her each day.

Vaidehi was a very beautiful girl, she used to get many marriage proposals from rich families. Her aunt used to hate it because, their daughter was not good looking or well-mannered enough. Aunt used to cancel all the proposals for Vaidehi, and torture her by abusing her, and giving all the household chores to her. She would not get good enough food to stay healthy, she was daily abused by her father, uncle, aunt, which mentally tortured her. Daily after completing all the work, she used to lock herself and cry for hours, which caused dark circles under her eyes, unhappiness and stale food was causing dullness and hair fall to her skin. Sumitra (Vaidehi’s aunt) used to do all possible things to destroy her.

Vaidehi’s mother Kashi who was the real owner of the house was in a shocking state. She was kept and considered as the maid of their house. She also went through all this after she got married to Sameer (Vaidehi’s father), but was unable to stop this torture which was happening with her daughter. Earlier when Kashi was pregnant i.e., when she carried Vaidehi inside her belly, Kashi was blackmailed by Sameer that he would kill the baby by giving her Rat Kill pills if she does not do as directed by the family members. Actually, Sameer’s family was narrow minded people they didn’t liked educated women as wives. Now same thing was happening with Vaidehi but for a different reason.

Vaidehi was tolerable enough but she was not able to see her mother in such a situation. One day when Sameer was extremely drunk, he took

off his belt and started beating Kashi unconsciously, which made tremendous marks on her body. Now this was the alarming sign for Vaidehi as well as Kashi. Day by day situations were getting worse and finally the day came when Kashi became mentally unstable and unfortunately was send to Agra’s Mental Asylum. That day Vaidehi almost became numb. She decided to take a big and final step and she ran away to police station. She gained courage and filed complaint against, each one of them. Police punished Vaidehi’s family under the section 498A of Indian Penal code according to the criminal law (Second Amendment).

This was the case of 1985, but now a days also domestic violence has not stopped. It’s been 2023, we have come so far and still some areas of India are deeply narrow minded and attempt domestic violence without thinking twice. It is said that approximately 30% of women are beaten up by their husbands after marriage. It is considered okay to do that. Society needs to pay attention to this, we as a society should raise our voices against this. Law needs to pay attention to this and make a severe, solid punishment for this. As it is equal to a murder or suicidal case.

Thank you!

Viramya Mishra

 

Because I liked it, so I am publishing it here. We should not forget that such incidents are happening even today.

 

bookmark_borderमहारानी अहिल्याबाई होल्कर अवार्ड्स

महारानी अहिल्याबाई होल्कर अवार्ड्स

Dr. Purnima Sharma
Dr. Purnima Sharma

25 फरवरी को पटपड़गंज स्थित IPEX भवन में अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के स्वागत में WOW India द्वारा श्री लक्ष्मणदास चैरिटेबल ट्रस्ट के सौजन्य से एक रंगारंग कार्यक्रम का आयोजन किया गया | कार्यक्रम का आरम्भ रेणु कुमार की प्रस्तुति “सरस्वती वन्दना” के साथ किया गया | इस अवसर पर बोलते हुए संस्था की Secretary General डॉ पूर्णिमा शर्मा ने महिला सशक्तीकरण के सन्दर्भ में बोलते हुए कहा कि आज की नारी अबला नहीं है, बल्कि हर क्षेत्र में आगे बढ़कर कार्य कर रही है | वही सृष्टि पर जीवन लाती है, वही उसका पालन पोषण करके उसे परिवार-समाज-देश के लिए उपयोगी मनुष्य बनाती है – और साथ ही अपनी महत्त्वाकांक्षाओं को भी पूर्ण करती हुई समाज की प्रगति में योगदान देती है | पुरुष भी अपनी इच्छाओं महत्त्वाकांक्षाओं की परवाह किये बिना अपने उत्तरदायित्वों का पालन करता है – इस तरह स्त्री पुरुष दोनों की समान भूमिकाएँ हैं | किन्तु समस्या तब होती है जब बहुत सी जगहों पर पुरुष अपने त्याग की गाथा गाकर स्त्री के त्याग को नकारने का प्रयास करता है – इसी बात को जड़ से मिटाने की आवश्यकता है | और इसके लिए स्त्री को स्वयं प्रयास करना होगा |

संस्था की President डॉ लक्ष्मी ने एक ओर जहाँ भारत कोकिला सरोजिनी नायडू के जीवन और कृतित्व पर चर्चा की – क्योंकि 13 फरवरी को श्रीमती नायडू का जन्म दिवस था – तो दूसरी ओर महारानी अहिल्याबाई होल्कर के विषय में बात की – कि अपने अपने क्षेत्रों में विशिष्ट योगदान देने के लिए WOW India द्वारा प्रति वर्ष दिए जाने वाले पुरुस्कारों को क्यों इस वर्ष से “महारानी अहिल्याबाई होल्कर” के सम्मान में दिया जा रहा है | महारानी अहिल्याबाई होल्कर के समाज और राष्ट्र के प्रति योगदान के विषय में बताया |

संस्था की Chairperson डॉ शारदा जैन ने अपने वक्तव्य में Anaemia Free Movement में योगदान के लिए WOW India की सभी Volunteers का आह्वान किया |

रंगारंग कार्यक्रम
रंगारंग कार्यक्रम

इस अवसर पर डॉ शारदा जैन को उनके मार्गदर्शन के लिए, डॉ पूर्णिमा शर्मा को संस्था के लिए किए गए उनके अथक प्रयासों के लिए तथा श्रीमती अर्चना गर्ग को समाज सेवा के क्षेत्र में उनके विशिष्ट योगदान के लिए विशेष रूप से सम्मानित किया गया | प्रसिद्ध ओड़िसी नृत्यांगना श्रीमती आम्रपाली गुप्ता मुख्य अतिथि के रूप में कार्यक्रम कि शोभा बधाई, तो दूसरी ओर श्रीमती अमृता पचौरी और डॉ चन्दरलता ने अपनी कविताओं से दर्शकों का मन मोह लिया |

इस सबके अतिरिक्त Health Awareness के क्षेत्र में विशेष योगदान के लिए डॉ आभा शर्मा और डॉ ममता ठाकुर को, Education & Literature के क्षेत्र में डॉ प्रिया गुप्ता और पूजा भारद्वाज को, Music & Arts के क्षेत्र में निधि भुट्टन, रेणु कुमार और प्रीति तण्डन को और Social Work के क्षेत्र में श्रीमती सुनन्दा श्रीवास्तव, श्रीमती ऋतु भाटिया और श्रीमती शारदा मित्तल को Maharani Ahilyabai Holkar Excellence Award से सम्मानित किया गया |   

इसी तरह Health Awareness के क्षेत्र में डॉ. आशा साहे, डॉ शमा बत्रा और डॉ रश्मि नागपाल अरोड़ा को, Education & Literature के क्षेत्र में श्रीमती कविता भाटिया और श्रीमती कृष्णा भाटिया को, Music & Arts के क्षेत्र में श्रीमती उषा रुस्तगी, श्रीमती रुक्मिणी नैयर और कुमारी नन्दिनी भार्गव को, तथा Social Work के क्षेत्र में श्रीमती नीना दुग्गल, श्रीमती सुनीता अरोड़ा, श्रीमती गीता अग्रवाल और श्रीमती वनिता जैन को Maharani Ahilyabai Holkar Appreciation Award से सम्मानित किया गया |

प्रस्तुत हैं कार्यक्रम कि कुछ झलकियाँ…

डॉ पूर्णिमा शर्मा, Secretary General, WOW India

 

bookmark_borderआप वैसे नहीं हैं

आप वैसे नहीं हैं 

आज के हमारे इस लेख का विषय है “आप वैसे नहीं हैं”…

Katyayani Dr. Purnima Sharma
Katyayani Dr. Purnima Sharma

आपने अक्सर लोगों को कहते सुना होगा कि हमें गुस्सा नहीं आता, लेकिन जब कोई कुछ ग़लत बात बोल देता है तो हम अपना टेम्पर लूज़ कर जाते हैं | यानी लोग अपने गुस्से का इलज़ाम दूसरों पर डाल देते हैं कि ये तो दूसरे लोग हैं जिनके कारण हमें गुस्सा आता है | या कभी ऐसा भी होता है कि कोई बोल देता है “तुम बेवकूफ हो” और हम उसे सच मान बैठते हैं | हमारे मन में हीन भावना आ जाती है | हम अपने आपको निरर्थक समझने लगते हैं | ऐसा नहीं होना चाहिए |

कोई दूसरा आपके विषय में क्या सोचता है आप पर इस बात से कोई असर क्यों पड़े ? क्यों आप दूसरों की बातों से प्रभावित होते हैं ? आप जो हैं – जैसे भी हैं – वैसे ही हैं | किसी दूसरे के आपको बेवकूफ कहने से आप बेवकूफ नहीं हो जाते | ये उन दूसरे लोगों की धारणा है आपके विषय जो बहुत से कारणों से बन सकती है – सम्भव है किसी अन्य व्यक्ति ने उन्हें बेवकूफ़ कहा हो और उसका बदला लेने के लिए वे आपको बेवकूफ़ बोल रहे हैं | या फिर उनकी अपनी हीन भावना या कुछ भी हो सकता है | तो उस सबका असर आप पर होना ही नहीं चाहिए | आप जो हैं – जैसे भी हैं – वैसे ही हैं – और दूसरा व्यक्ति जैसा है वैसा है |

आप वैसे नहीं हैं जैसा दूसरे आपको देखना चाहते हैं | आप एक व्यक्तित्व हैं | आप दूसरों से बिल्कुल अलग हैं | कोई भी दो लोग एक जैसे नहीं हो सकते – न शक्ल सूरत में, न स्वभाव में, न गुणों में – जुड़वां बच्चों की बात अलग है – लेकिन उनके स्वभाव भी प्रायः एक जैसे नहीं होते | और कहा तो यहाँ तक जाता है कि एक ही शक्ल के सात लोग संसार के किसी भी कोने में हो सकते हैं – तो ये एक अलग बात है | कहने का मतलब यही है कि आपकी अपनी एक अलग पहचान है | आवश्यकता है अपनी उस पहचान को समझने की | आवश्यकता है अपना मूल्य जानने की | आप अपने महत्त्व खुद ही समझने लग जाएँगे तो दूसरे आपके विषय में उलटा सीधा बोलना बन्द कर देंगे और आपकी योग्यता को पहचानने लग जाएँगे |

एक प्रयोग करके देखिये | अगर कोई आपके लिए कुछ ग़लत बोलता है या आपको नीचा दिखाने की कोशिश करता है तो एक लम्बी साँस लीजिये और मन में संकल्प कीजिए कि “हम पर कोई असर इस बात का नहीं पड़ता | हम इस बात पर कोई प्रतिक्रिया नहीं देंगे – कुछ भी रिएक्ट नहीं करेंगे – हम बिल्कुल शान्त रहेंगे…” और ऐसा संकल्प लेकर मुस्कुराइए और आगे बढ़ जाइए | विश्वास कीजिए, ऐसा करके आपको स्वयं अनुभव होगा कि अपने प्रति आपकी सारी हीन भावना – दूसरों के प्रति आपकी सारी नकारात्मकता एक ही बार में दूर हो जाएगी | और निरन्तर इस अभ्यास को करते रहने से कभी आप पर किसी की नकारात्मक बातों का असर होना ही बन्द हो जाएगा | एक बार करके तो देखिये ऐसा प्रयास…

तो अन्त में बस यही कहेंगे कि अपने प्रति उदार बनिए… दूसरों के अनुसार खुद को बदलने का प्रयास मत कीजिए… क्योंकि आप वैसे नहीं हैं जैसा दूसरे आपको देखना चाहते हैं या जैसे दूसरे हैं… आप स्वयं में एक व्यक्तित्व हैं…

आज के लिए बस इतना ही… अगली बार किसी दूसरे विषय के साथ आपके समक्ष होंगे… तब तक के लिए नमस्कार…

कात्यायनी………..

 

bookmark_borderहरियाली तीज और आज़ादी का अमृत महोत्सव

हरियाली तीज और आज़ादी का अमृत महोत्सव

Katyayani Dr. Purnima Sharma
Katyayani Dr. Purnima Sharma

24 जुलाई को इन्द्रप्रस्थ विस्तार स्थित आईपैक्स भवन में महिलाओं के सर्वांगीण स्वास्थ्य की दिशा में प्रयासरत संस्था WOW India ने अपनी Sister Organization DGF और 6 Organics तथा श्री लक्ष्मणदास चैरिटेबल ट्रस्ट के साथ मिलकर हरियाली तीज और आज़ादी के अमृत महोत्सव का आयोजन किया | कार्यक्रम दिन में दो बजे Lunch के साथ आरम्भ हुआ | तीन बजे श्री कबीर शर्मा द्वारा लिखित, डॉ पूर्णिमा शर्मा द्वारा स्वरबद्ध किया तथा रूबी शोम और अमज़द खान द्वारा गाया हुआ वीरों की शौर्य गाथा को दर्शाता गीत “रणबाँकुरों तुम्हें नमन तुम्हें प्रणाम है” प्रस्तुत किया गया | उसके बाद विधिवत कार्यक्रम का आरम्भ हुआ |

संस्था की चेयरपर्सन डॉ शारदा जैन ने इस अवसर पर बोलते हुए कहा कि सभी को आज़ादी के महत्त्व को समझना चाहिए | संस्था की महासचिव डॉ पूर्णिमा शर्मा ने अपने वक्तव्य में कहा कि जब आज़ादी मिलती है तो बहुत सारे उत्तरदायित्व भी साथ में लाती है – विशेष रूप से महिलाओं का उत्तरदायित्व यही है कि वे स्वयं अपने स्वास्थ्य पर ध्यान दें ताकि अपनी सन्तानों के स्वास्थ्य पर भी दे सकें – उन्हें अच्छे संस्कार दें ताकि स्वस्थ और संस्कारित भावी पीढ़ी का निर्माण हो सके – और हमारे वीर शहीदों के बलिदान सार्थक सिद्ध हो सकें |

कार्यक्रम में डॉ दीपाली भल्ला का गीत “चलो पेड़ लगाएँ” भी रिलीज़ किया गया | साथ ही WOW India की सभी शाखाओं के सदस्यों के द्वारा रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किये गए |

नृत्य और गीतों के साथ ही एक प्रभावशाली प्रस्तुति रही सूर्य नगर शाखा की सदस्यों द्वारा प्लास्टिक के दुष्प्रभावों के सन्दर्भ में प्रस्तुत लघु नाटिका – जिसका लेखन और निर्देशन किया था अनुभा पाण्डेय ने… महिलाओं से सम्बन्धित वस्तुओं के स्टाल्स भी लगाए गए जिनमें महिलाओं ने अपनी पसन्द की वस्तुओं की ख़रीदारी भी की |

कार्यक्रम का मुख्य आकर्षण रहा “Teej Queen Contest” जिसमें तीज क्वीन बनीं WOW India की इन्द्रप्रस्थ विस्तार की सदस्य ऋतु भार्गव… इन्हें ही Best Ramp Walk का अवार्ड भी मिला… रनर अप और बेस्ट स्माइल का अवार्ड मिला डॉ मंजु बारिक को… बेस्ट हेयर का अवार्ड मिला डॉ आभा शर्मा को… 

Teej Queen & Best Ramp Walk
Teej Queen & Best Ramp Walk

 

 

Runner up & Best Smile
Runner up & Best Smile
Best Hair
Best Hair

 

 

 

इसके अतिरिक्त रूबी शोम को “रणबाँकुरों” गाने के लिए Excellence award दिया गया, रुक्मिणी नायर को Appreciation award दिया आर्ट्स एंड क्राफ्ट्स के लिए, प्रीति नागपाल को Wow Woman Entrepreneur का अवार्ड दिया गया… WOW India की Cultural Secretary लीना जैन ने बहुत प्रभावशाली ढंग से मंच का संचालन किया…

डॉ पूर्णिमा शर्मा, Secretary General, WOW India

Related Images:

bookmark_borderCertificate of Participation

Certificate of Participation

साँझ सकारे कोयल कूके, लो वसन्त आया |

रंग बिरंगे फूल खिलाता लो वसन्त आया ||

पाँच फरवरी को वसन्त पञ्चमी का उल्लासमय पर्व था… ऋतुराज वसन्त के स्वागत हेतु WOW India ने साहित्य मुग्धा दर्पण के साथ मिलकर डिज़िटल प्लेटफ़ॉर्म ज़ूम पर दो दिन काव्य संगोष्ठियों का आयोजन किया… द्वितीय कड़ी 5 फरवरी को आयोजित की गई जिसमें दोनों संस्थाओं के सदस्यों स्वरचित रचनाओं का पाठ किया… काव्य पाठ प्रस्तुत वाले वाले सदस्यों को सम्मानस्वरूप एक प्रशस्ति पत्र भी प्रदान किया गया है… सादर: डॉ पूर्णिमा शर्मा…

Anubha Pandey

 

 

 

 

bookmark_borderFestival of Hindi Poetry on Spring

Festival of Hindi Poetry on Spring

वसन्त पर हिन्दी कविताओं का उत्सव

नमस्कार ! WOW India के सदस्यों की योजना थी कि कुछ कवि और कवयित्रियों की वासन्तिक रचनाओं से वेबसाइट में वसन्त के रंग भरेंगे, लेकिन स्वर साम्राज्ञी भारत

Lata Mangeshkar
Lata Mangeshkar

कोकिला लता मंगेशकर जी के दिव्य लोक चले जाने के कारण दो दिन ऐसा कुछ करने का मन ही नहीं हुआ… जब सारे स्वर शान्त हो गए हों तो किसका मन होगा वसन्त मनाने का… लेकिन दूसरी ओर वसन्त भी आकर्षित कर रहा था… तब विचार किया कि लता दीदी जैसे महान कलाकार तो कभी मृत्यु को प्राप्त हो ही नहीं सकते… वे तो अपनी कला के माध्यम से जनमानस में सदैव जीवित रहते हैं…

नाम गुम जाएगा, चेहरा ये बदल जाएगा
मेरी आवाज़ ही पहचान है, गर याद रहे

और यही सब सोचकर आज इस कार्य को सम्पन्न कर रहे हैं… लता दीदी वास्तव में माता सरस्वती की पुत्री थीं… तभी तो उनका स्वर कभी माँ वाणी की वीणा जैसा प्रतीत होता है… कभी कान्हा की बंसी जैसा… तो कभी वासन्तिक मलय पवन संग झूलते वृक्षों के पत्रों के घर्षण से उत्पन्न शहनाई के नाद सरीखा… तभी तो नौशाद साहब ने अपने एक इन्टरव्यू में कहा भी था “लता मंगेशकर की आवाज़ बाँसुरी और शहनाई की आवाज़ से इस क़दर मिलती है कि पहचानना मुश्किल हो जाता है कौन आवाज़ कण्ठ से आ रही है और कौन साज़ से…” उन्हीं वाग्देवी की वरद पुत्री सुमधुर कण्ठ की स्वामिनी लता दीदी को समर्पित है इस पृष्ठ की प्रथम रचना… माँ वर दे… सरस्वती वर दे…
माँ वर दे वर दे / सरस्वती वर दे…
वीणा पर वह भैरव गा दे, जो सोए उर स्वतः जगा दे |
सप्त स्वरों के सप्त सिन्धु में सुधा सरस भर दे ||
माँ वर दे वर दे / सरस्वती वर दे…
गूँज उठें गायन से दिशि दिशि, नाच उठें नभ के तारा शशि |

Vasant Panchami
Vasant Panchami

पग पग में नूतन नर्तन की चंचल गति भर दे ||
माँ वर दे वर दे / सरस्वती वर दे…
तार तार उर के हों झंकृत, प्राण प्राण प्रति हों स्पन्दित |
नव विभाव अनुभाव संचरित नव नव रस कर दे ||
माँ वर दे वर दे / सरस्वती वर दे…
वीणा पुस्तक रंजित हस्ते, भगवति भारति देवि नमस्ते |
मुद मंगल की जननि मातु हे, मुद मंगल कर दे ||
माँ वर दे वर दे / सरस्वती वर दे…

अब, वसन्त का मौसम चल रहा है… जो फाल्गुन मास से आरम्भ होकर चैत्र मास तक रहता है… फाल्गुन मास हिन्दू वर्ष का अन्तिम महीना और चैत्र मास हिन्दू नव वर्ष का प्रथम माह होता है… भारतीय वैदिक जीवन दर्शन की मान्यता कितनी उदार है कि वैदिक वर्ष का समापन भी वसन्तोत्सव तथा होली के हर्षोल्लास के साथ होता है और आरम्भ भी माँ भगवती की उपासना के उल्लास और भक्तिमय पर्व नवरात्रों के साथ होता है… तो प्रस्तुत हैं हमारे कुछ साथियों द्वारा प्रेषित वासन्तिक रचनाएँ… सर्वप्रथम प्रस्तुत है डॉ ऋतु वर्मा द्वारा रचित ये रचना… प्रेम वल्लरी
हवाओं को करने दो पैरवी,
हौले हौले फूलों को रंग भरने दो
बस चुपचाप रहो तुम,
प्रेम वल्लरी अंबर तक चढ़ने दो
किरनों आओ, आकर धो दो हृदय आंगन
अब यहां आकर रहा करेंगे, सूर्य आनन
धड़कनों को घंटनाद करने दो,
विवादों को शंखनाद करने दो
प्रेम वल्लरी…..
सौंदर्यमयी आएगी पहनकर / नीहार का दुशाला
तुम भी दबे पांव आना / अति सजग है उजाला
प्रेम प्रालेय को देह पर गिरने दो,
चश्म के चश्मों को नेह से भरने दो
प्रेम वल्लरी….
ये हृदयहीन जाड़ा, क्यूं गलाये स्वप्न?
तेरा अलाव सा आगोश, पिघलाये स्वप्न
कहीं दूर शिखरों पर बर्फ गिरती है, तो गिरने दो
जलती है दुनिया पराली सी, तो जलने दो
प्रेम वल्लरी…..

और अब, रेखा अस्थाना जी की रचना… सखी क्या यही है वसन्त की भोर?

सखि क्या यही है वसन्त की भोर ?

खोल कपाट अलसाई नैनों से / देखा मैंने जब क्षितिज की ओर |
सुगंध मकरंद की भर गई / चला न पाई संयम का जोर ||
सखी कहीं यही तो नहीं वसन्त की भोर? |
फिर चक्षु मले निज मैंने / लगी तकन जब विटपों की ओर |
देख ललमुनियों का कौतुक / प्रेमपाश में मैं बंध गई
भीग उठे मेरे नयन कोर |
सखी यही तो नहीं वसन्त की भोर ||
फिर पलट कर देखा जब मैंने / बौराए अमुआ गाछ की ओर,
पिक को गुहारते वेदना में / निज साथी को बुलाते अपनी ओर |
देख उनकी वेदना, पीड़ा उठी मेरे पोर पोर |
सखी क्या यही है वसन्त की भोर ||
सुनकर भंवरे की गुंजार / पुष्प पर मंडराते करते शोर
अंतर भी मेरा मचल उठा |
सुन पाऊँ शायद मैं इस बार सखी
अपने प्रियतम के बोल |
लग रहा मुझको तो सखी यही है
अब वसन्त की भोर ||
मृदुल, सुगंधित, सुरभित बयार ने
आकर जब छुआ मेरे कोपलों को,
तन ऊर्जा से भर गया मेरा |
खुशी का रहा नहीं मेरा ओर-छोर |
अलि अब तो समझ ही गयी मैं,
यही तो है वसन्त की भोर ||

अब डॉ नीलम वर्मा जी का हाइकु…

बसंत-हाइकु

उन्मुक्त धरा

गा दिवसावसान

बसंत- गान

– नीलम वर्मा

अब पढ़ते हैं गुँजन खण्डेलवाल की रचना… पधार गए रति नरेश मदन…

माघ पौष से ठिठुरी, शुष्क धारा रति,

रूठी, उदास, फीकी, मन की जान रही गति,

सर्द तीखी हवा में बिखराए दूर्वा कुंतल,

रात भर तृण तृण पर बिछा तुहिन,

बुझाती विरह अनल,

श्वेत हिम के बगूलो से स्वयं जम गई,

नव सूर्य की प्रथम रश्मि से धीरे से पिघल गई,

उत्तरायण में ज्यों ली दिनकर ने करवट,

संवारने लगी वसुंधरा रूप अपना झटपट,

डगर, द्वार सजने लगी बलखाती लतिकाओं की बंदनवार,

कहे वसुधा – उठ अलि, उठ कलि, कर मेरा सोलह श्रृंगार,

सखी कोयल लगी कुहुकने, कीट भृंग करें गुंजार,

सुप्त तितलियों ने त्याग निद्रा सतरंगी पंख दिए पसार,

सरसों ने फैलाया उन्मुक्त पीला आंचल, दी लज्जा बिसार

रंग बिरंगे पुष्पों से शोभित हुए उपवन – अवनि,

बालियों से अवगुंठित पहन हार, ऋतुराज ढूंढे सजनी,

झटक कर अपने पुराने वसन,

नूतन पत्र पंखों से वृक्ष करते अगुवाई,

आंख मिचौली खेलती धूप, स्निग्ध ऊष्म से देती बधाई,

लहलहाने लगे खेत, उपवन करते अभिनंदन,

ईख उचक उचक लहराते, झुक झुक करते वंदन,

आम्रमंजरी, नव नीम पल्लव, पीपल कर रहे नमन,

चिड़ियों की चहक बजाएं ढोल शहनाई,

प्रफुल्ल पक्षियों ने जल तरंग बजाई,

लचकती टहनियां झूमें, छेड़े जो मलय पवन,

आनंद, प्रेम रस में हिलोरे लेते धरती गगन,

कामदेव प्रिया पीत अमलतास बिछाए,

शीश पर धर मयूर पंख किरीट रतिप्रिय मुस्काए,

कुमकुमी उल्लास, गुनगुनाते प्रेम राग पधार रहे ऋतुराज मदन,

पधार गए रति नरेश मदन।।

और अब प्रस्तुत है अनुभा पाण्डे जी की रचना… लो दबे पाँव आ गया वसन्त है…

धरती की हरिता पर यौवन अनंत है,

दिनकर की छाँव में प्रस्फुटित मकरंद है, पल्लवित कोंपलों में मंद हलचल बंद है,

लो दबे पाँव आ गया बसंत है |

शुष्क पत्र के छोड़ गलीचे,

झुरमुट हटा निस्तेज डाल की,

उल्लास की पायल झनकाती,

नव-जीवन मदिरा छलकाती,

धनी चूनर पहने धरती सराबोर रसरंग है…

लो दबे पाँव आ गया बसंत है |

झूम रहीं डाली, कलियाँ,

पत्ते सर-सर कर डाल रहे,

खेतों में नाचे गेहूँ, सरसों,

नभचर उन्मुक्त हुए, गगन मानो तोल रहे,

धरती, बयार दोनों थिरक रहे संग हैं…

लो दबे पाँव आ गया बसंत है |

फिर से कोयल कूकेगी,

फिर से अमरायी फूटेगी,

ओट से जीवन झांकेगा,

शैथिल्य की तंद्रा टूटेगी,

सुप्त तम का क्षीण-क्षीण हो रहा अंत है…

लो दबे पाँव आ गया बसंत है |

नयनाभिराम, अनुपम ये दृश्य,

रति- मदन मगन कर रहे हों नृत्य,

देव वृष्टि कर रहे ज्यों पुष्य,

मधु-पर्व की रागिनी पर सृष्टि की लय- तरंग,

शीत के कपोल पर कल्लोल कर रहा बसंत है,

लो दबे पाँव आ गया बसंत है |

माँ झंकृत कर दो मन के तार,

अलंकृत हों उद्गार, विचार,

हे वीना- वादिनी! दे विद्या उपहार,

धनेश्वरी, वाक्येश्वरी माँ! प्रार्थना करबद्ध है…

लो दबे पाँव आ गया बसंत है |

लो दबे पाँव आ गया बसंत है ||

अब प्रस्तुत कर रहे हैं रूबी शोम द्वारा रचित ये अवधी गीत… आए गवा देखो वसन्त…
आय गवा देखो बसंत, पिया नहीं आए रे
देखो सखी मोर जिया, हाय घबराए रे -3
फूल गेंदवा से चोटी, मैंने सजाई रे,
देख देख दरपन मा खुद ही लजाई रे |
अंजन से आंख अपन आंज लिंहिं आज रे
पर मोर गुइयां देखो साजन अबहुं नहीं आए रे |
आय गवा देखो बसंत सखी पिया नहीं आए रे |
पियर पियर सारी और लाल च चटक ओढ़नी
पहिन मै द्वारे के ओट बार बार जाऊं रे |
आय गवा देखो बसंत पिया नहीं आए रे -3
पियर पियर बेर शिव जी को चढ़ाऊं रे
पूजा के बहाने अब तो पिया का पंथ निहारूं रे
आय गवा देखो बसंत पिया नहीं आए रे |
पांती लिख लिख भेज रही मै हृदय की ज्वाला जल रही
आ जाओ पिया फाग में रूबी तुमरी मचले रे |
आय गवा देखो बसंत पिया नहीं आए रे
देखो सखी मोर जिया हाय घबराए रे |
ये है नीरज सक्सेना की रचना… बसंत…
सखी आया वसंत सखी छाया वसंत
धरती से पतझड़ की सायें का अंत
बेलों में फूलों की खुशबू अनंत
सखी आया वसंत सखी छाया वसंत
रचा सरसों के खेतों में बासंती रंग
इठलाई अमुआ की डाली बौरों के संग
कोयलियां कि कुह कुह जगावें उमंग
सखी आया वसंत सखी छाया वसंत
बहे मंद मंद पवन लेके भीनी सुगंध
घटी सर्दी की चादर कुहासें का अंत
दिनकर की आभा से चमचम दिगंत
सखी आया वसंत सखी छाया वसंत
गूंजे भौरें की गुंजन मधुप चखें मरकंद
देख मौसम के रंग जुड़े प्रेम के प्रसंग
जगे आशा की किरणें जगे भाव जीवंत
सखी आया वसंत सखी छाया वसंत
बसंत पंचमी की हार्दिक शुभकामनाएं!

ये रचना श्री प्राणेन्द्र नाथ मिश्रा जी की है… आनन्द हो जीवन में…

नीरसता थी, नीरव था विश्व
हर ओर मौन छाया तब तक
मां सरस्वती की वीणा से
गूंजी झंकार नहीं जब तक |
अभिलाषा! ले आ राधातत्व
जीवन हो जाए कृष्ण भक्त,
शारदे की वीणा झंकृत हो
आलोक ज्ञान रस धरा सिक्त |
हो, कुसुम कली का कलरव हो
मन मारे हिलोरें दिशा दिशा
ढूंढती फिरे अमावस को
उत्सुक हो कर ज्योत्सना निशा |
झूमे पलाश, करे मंत्र पा
आहुति दे पवन, लिपट करके
नृत्यांगना बन कर वन देवी
नाचे पीपल से सिमट कर के |
यह पर्व है या यह उत्सव है
पावन मादकता है मन में
छूती वसंत की गलबहियां
कहतीं, आनंद हो जीवन में!

 

अब पढ़ते हैं नीरज सक्सेना जी की रचना… आया वसन्त…

सखी आया वसंत सखी छाया वसंत

धरती से पतझड़ की सायें का अंत

बेलों में फूलों की खुशबू अनंत

सखी आया वसंत सखी छाया वसंत

रचा सरसों के खेतों में बासंती रंग

इठलाई अमुआ की डाली बौरों के संग

कोयलियां कि कुह कुह जगावें उमंग

सखी आया वसंत सखी छाया वसंत

बहे मंद मंद पवन लेके भीनी सुगंध

घटी सर्दी की चादर कुहासें का अंत

दिनकर की आभा से चमचम दिगंत

सखी आया वसंत सखी छाया वसंत

गूंजे भौरें की गुंजन मधुप चखें मरकंद

देख मौसम के रंग जुड़े प्रेम के प्रसंग

जगे आशा की किरणें जगे भाव जीवंत

सखी आया वसंत सखी छाया वसंत

 

और अन्त में, डॉ रश्मि चौबे की रचना… देखो सखी, आया बसंत

यहाँ मौन निमंत्रण देता, देखो ,सखी आया बसंत !

धरती का यौवन देख सखी, फिर मुस्काया बसंत |

यहाँ मौन निमंत्रण देता, देखो, सखी आया बसंत |

वीणा वादिनी की धुन पर, कोकिला पंचम स्वर में गाती,

गुलाब सा चेहरा खिलाए, कोपलों से मेहंदी रचाती,

सरसों की ओढ़ चुनरिया, मलयगिरि संग चली है,

आम्र की डाल बौराई है, जैसे कंगना पहन चली है,

और स्वर्णिम रश्मियों से, नरमाई, कुछ शरमाई सी,

धरती का यौवन देख सखी, फिर मुस्काया बसंत |

हरियाली का लहंगा देखो, कितने रंगों से सजाया है,

पीली-पीली चोली देखो, गेंदों ने हार पहनाया है,

पाँव में छोटे फूल बिछे, जैसे कालीन बिछाया है,

देखो सब मदहोश हुए हैं, मदन ने तीर चलाया है,

आज वसुधा ने दुल्हन बन, बसंत से ब्याह रचाया है,

यहां मौन निमंत्रण देता, देखो फिर मुस्काया बसंत |

चलो सखी हम नृत्य करें, आओ यह त्योहार मनाते हैं,

मन सप्त स्वरों में गाता है, पग ठुमक- ठुमक अब जाता है,

राधा -श्याम की मुरली में, मेरा हृदय रम जाता है |

गुप्त नवरात्रों में माँ दुर्गे ने, योगियों के सहस्रार खिलाए है,

आ चल विवाह के मंडप में सखी, आत्मा को परमात्मा से मिलाएं |

संकलन – डॉ पूर्णिमा शर्मा…