Call Us:

+91-11-22414049, 22453724

Email Us:

info@wowindia.info

Blog

bookmark_borderAdults also need vaccine like children

Adults also need vaccine like children

You’re never too old to get vaccinated!

Adult immunization in India is the most ignored part of heath care services.

Dr. Ruby Bansal
Dr. Ruby Bansal

Vaccines protects us from many diseases like children adults also need vaccine many diseases are vaccine preventable like hepatitis b, flu, pneumonia, cervical cancer etc

And due to lack of information and not taking vaccine many people are falling sick and even dying with the vaccine preventable diseases.

Vaccines of adults is very important given that >25% of mortality are due to infectious diseases. Vaccines are recommended for adults on the basis of age, prior vaccinations, health conditions, lifestyle, occupation, and travel. There have been significant efforts to curb morbidity, mortality, and disability among adults particularly due to communicable diseases such as tetanus, diphtheria, pertussis, hepatitis A, hepatitis B, human papilloma virus, measles, mumps, rubella, meningococcus, pneumococcus, typhoid, influenza, and chickenpox.

Few vaccines needed by adults are why:

Protection from some childhood vaccines can wear off over time

  1. Diphtheria, tetanus, pertussis
  2. Viruses and bacteria change over time
  3. Influenza
  4. Immune systems tend to weaken over time, putting older adults at higher risk for VPDs
  5. Influenza, pneumococcus
  6. Adults with certain chronic or immuno-compromising conditions are more likely to develop complications from certain VPDs 1,2
  7. Shingles, pneumococcus
  8. Adults can infect others 3
  9. Adults who contract measles, mumps or pertussis (whooping cough) can infect infants who may not yet be fully immunized

Influenza vaccination

  • Administer 1 dose of age-appropriate inactivated influenza vaccine (IIV) or recombinant influenza vaccine (RIV) annually

Tetanus, diphtheria, and acellular pertussis vaccination

  • Administer to adults who previously did not receive a dose of tetanus toxoid, reduced diphtheria toxoid, and acellular pertussis vaccine (Tdap) as an adult or child (routinely recommended at age 11–12 years) 1 dose of Tdap, followed by a dose of tetanus and diphtheria toxoids (Td) booster every 10 years

Measles, mumps, and rubella vaccination

  • Administer 1 dose of measles, mumps, and rubella vaccine (MMR) to adults with no evidence of immunity to measles, mumps, or rubella

Varicella vaccination

Administer to adults without evidence of immunity to varicella 2 doses of varicella vaccine (VAR) 4–8 weeks apart if previously received no varicella-containing vaccine (if previously received 1 dose of varicella-containing vaccine, administer 1 dose of VAR at least 4 weeks after the first

 Human papillomavirus vaccination

  • Administer human papillomavirus (HPV) vaccine to females through age 26 years
  • The number of doses of HPV vaccine to be administered depends on age at initial HPV vaccination
  • Administer 3-dose series at 0, 1–2, and 6 months

Pneumococcal vaccination

  • Administer to immunocompetent adults aged 65 years or older 1 dose of 13-valent pneumococcal conjugate vaccine (PCV13), if not previously administered, followed by 1 dose of 23-valent pneumococcal polysaccharide vaccine (PPSV23) at least 1 year after PCV13; if PPSV23 was previously administered but not PCV13, administer PCV13 at least 1 year after PPSV23

Hepatitis B vaccination

  • Administer to adults who have a specific risk (see below), or lack a risk factor but want protection, 3-dose series of single antigen hepatitis B vaccine (HepB)
Adults also need vaccine like children
Adults also need vaccine like children

Dr Ruby Bansal, MD, FIHM

HOD preventive Health AND HIV/AIDS

Yashoda superspeciality hospital

Kaushambi, Ghaziabad

Jt. Secretary WOW India

 

bookmark_borderStory of a day and night

Story of a day and night 

कहानी दिवस और निशा की
हर भोर उषा की किरणों के साथ
शुरू होती है कोई एक नवीन कहानी…
हर नवीन दिवस के गर्भ में
छिपे होते हैं न जाने कितने अनोखे रहस्य
जो अनावृत होने लगते हैं चढ़ने के साथ दिन के…
दिवस आता है अपने पूर्ण उठान पर
तब होता है भान दिवस के अप्रतिम दिव्य सौन्दर्य का…
सौन्दर्य ऐसा, जो करता है नृत्य / रविकरों की मतवाली लय पर
अकेला, सन्तुष्ट होता स्वयं के ही नृत्य से
मोहित होता स्वयं के ही सौन्दर्य और यौवन पर
देता हुआ संदेसा
कि जीवन नहीं है कोई बोझ / वरन है एक उत्सव
प्रकाश का, गीत का, संगीत का, नृत्य का और उत्साह का…
दिन ढलने के साथ नीचे उतरती आती है सन्ध्या सुन्दरी
तो चल देता है दिवस / साधना के लिए मौन की
ताकि सुन सके जगत सन्ध्या सुन्दरी का मदिर राग…
और बन सके साक्षी एक ऐसी बावरी निशा का
जो यौवन के मद में चूर हो करती है नृत्य
पहनकर झिलमिलाते तारकों का मोहक परिधान
चन्द्रिका के मधुहासयुक्त सरस विहाग की धुन पर…
थक जाएँगी जब दोनों सखियाँ
तो गाती हुई राग भैरवी / आएगी भोर सुहानी
और छिपा लेगी उन्हें कुछ पल विश्राम करने के लिए
अपने अरुणिम आँचल की छाँव में…
फिर भेजेगी सँदेसा चुपके से / दिवस प्रियतम को
कि अवसर है, आओ, और दिखाओ अपना मादक नृत्य
अपनी अरुण-रजत किरणों के साथ
ऐसी है ये कहानी / दिवस और निशा की
जो देती है संदेसा / कि हो जाए बन्द यदि कोई एक द्वार
या जीवन संघर्षों के साथ नृत्य करते / थक जाएँ यदि पाँव

दिवस और निशा
दिवस और निशा

मत बैठो होकर निराश
त्याग कर चिन्ता बढ़ते जाओ आगे / देखो चारों ओर
खुला मिलेगा कोई द्वार निश्चित ही
जो पहुँचाएगा तुम्हें अपने लक्ष्य तक
निर्बाध… निरवरोध…
उसी तरह जैसे ढलते ही दिवस के / ठुमकती आती है सन्ध्या साँवरी
अपनी सखी निशा बावरी के साथ
और थक जाने पर दोनों के
भोर भेज देती है निमन्त्रण दिवस प्रियतम को
भरने को जगती में उत्साह
यही तो क्रम है सृष्टि का… शाश्वत… चिरन्तन…

डॉ. पूर्णिमा शर्मा 

Blanket Distribution

During a freezing cold day, our chairperson Dr. Sharda Jain was thinking that our organization WOW India can help some people to get relief from cold. She discussed with us about this and we decided to distribute some blankets to needy and poor person. The occasion was the Republic Day of our great and beautiful country. Yes, on 26th January WOW India distributed blankets to poor and needy people through National Youth Blind Association, I P Extension. I, Dr.  Lakshmi, Dr. Rashmi Jain, Banu Bansal, Pramila Malik and Sarita Rastogi were present on this occasion. Here are some photographs…

Blanket Distribution
Blanket Distribution

bookmark_borderHappy republic day

Happy republic day
गणतन्त्र दिवस की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएँ

अल्पानामपि वस्तूनां संहति: कार्यसाधिका

Dr. Purnima Sharma
Dr. Purnima Sharma

तॄणैर्गुणत्वमापन्नैर्बध्यन्ते मत्तदन्तिन:।। हितोपदेश 1/35

छोटी छोटी वस्तुओं को भी यदि एक स्थान पर एकत्र किया जाए तो उनके द्वारा बड़े से बड़े कार्य भी किये जा सकते हैं | उसी प्रकार जैसे घास के छोटे छोटे तिनकों से बनाई गई डोर से एक मत्त हाथी को भी बाँधा जा सकता है |

वास्तव में एकता में बड़ी शक्ति है ऐसा हम सभी जानते हैं | तो क्यों न आज गणतन्त्र दिवस के शुभावसर पर हम सभी मनसा वाचा कर्मणा एक हो जाने का संकल्प लें ? इसका यह अर्थ कदापि नहीं है कि हम सब एक जैसे ही कार्य करें, एक जैसी ही बोली बोलें या एक जैसे ही विचार रखें | निश्चित रूप से ऐसा तो सम्भव ही नहीं है | प्रत्येक व्यक्ति की पारिवारिक, सामाजिक, आर्थिक, व्यावसायिक आदि विभिन्न परिस्थितियों की आवश्यकताओं के अनुसार हर व्यक्ति मनसा वाचा कर्मणा एक दूसरे से अलग ही होगा | हर कोई एक ही बोली नहीं बोल सकता, हर व्यक्ति की सोच अलग होगी, हर व्यक्ति का कर्म अलग होगा |

मनसा वाचा कर्मणा एक होने का अर्थ है कि हम चाहे अपनी परिस्थितियों के अनुसार जो भी कुछ करें, पर मन वचन और कर्म से किसी अन्य को किसी प्रकार की हानि

पहुँचाने का जाने अनजाने प्रयास न करें | और जब आवश्यकता हो तो पूरी दृढ़ता के साथ एक दूसरे को सहयोग दें |

मनसा वाचा कर्मणा एक सूत्र में गुँथने का अर्थ है कि हम अपनी व्यक्तिगत समस्याओं और आवश्यकताओं के साथ साथ सामूहिक समस्याओं और आवश्यकताओं पर भी ध्यान दें… जैसे बच्चों और महिलाओं का सशक्तीकरण यानी Empowerment… और बच्चों तथा महिलाओं का स्वास्थ्य यानी

Happy republic day
Happy republic day

Good Health… यदि इन दोनों विषयों के लिए हम सामूहिक प्रयास करते हैं तो हम मनसा वाचा कर्मणा एकता की डोरी में ही गुँथे हुए हैं…

सर शान से उठाए लहराता तिरंगा भी यही तो सन्देश देता है कि कितनी भी विविधताएँ हो, कितने भी वैचारिक

मतभेद हों, किन्तु अन्ततोगत्त्वा राष्ट्रध्वज के केन्द्र में चक्रस्वरूप सबके विचारों का केन्द्र देश ही होता है… अर्थात अपने अपने कार्य करते हुए, अपनी अपनी सोच के साथ, अपनी अपनी भाषा का सम्मान करते हुए साथ मिलकर आगे बढ़ते जाना… ऐसी स्थिति में न विचार बाधा बनेंगे, न भाषा, न वर्ण, न वेश, और न ही कर्म… ऐसे देश को निरन्तर प्रगति के पथ पर अग्रसर होने से कोई रोक नहीं सकता…

एकता की इसी भावना के साथ सभी को गणतन्त्र दिवस की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ…

डॉ पूर्णिमा शर्मा 

bookmark_borderReport on New Year Celebrations

Report on New Year Celebrations

Report on 2nd January Program…
Yesterday, DGF Celebrated New Year Celebrations. Since, WOW India is a sister organization of DGF, that’s why Volunteers of WOW India also were invited to perform. It was really a GREAT CULTURAL SHOW… A ROCKING SHOW… More than 100 Gynaecologists and some Volunteers of WOW India performed in the program with full enthusiasm… Even Dr. Sharda Jain were rocking in the Qawwali presented by DGF and directed by Dr. Surjeet Kapur… Action packed 4 hours made people laugh… laugh and laugh… Really this program was a big hit and a result of a very successful team work by DGF members, as everybody was participating in each program… Whether it was the Qawwali… or it was the fancy-dress show… or it was a dance number by young doctors… or a dance numbers by Rachna Sarin and Vandana… or it was a dance performance by Purnima Shukla’s group… it was an unexpectedly Rocking show… Here are some photographs…
Dr. Purnima Sharma

 

bookmark_borderGreetings from Jt. Secretary WOW India

Greetings from Jt. Secretary WOW India

Happy new year friends!

As you know, Today’s Lifestyle is a Disease in itself. In India over the year with technology advancement and westernization there is tremendous change in life style of general population due to which life style diseases like diabetes, blood pressure, heart disease etc, are increasing. A study published in the international journal Pediatric Obesity in October predicted that India would have over 17 million obese children by 2025 and would stand second among the 184 countries fighting childhood obesity.

Now, there is a need of self-realization, sensitization about health, lifestyle, and happiness.

People need to look into their living, thinking, eating habits and sedentary life style stress full mind etc and its correction.

There should be a “me” time in everyone’s life which means first to give time to yourself then to others if you are healthy then only be able to take care of your responsibilities, family and work.

So, in this year all of us should take a resolve to adopt healthy habits, just like:

Regular brisk walk/exercise/ dancing /aerobics/yoga etc…

Balanced timely diet which includes right proportion of proteins, carbohydrates, fats, vitamins & minerals

Avoid junk food /aerated drinks

Avoid smoking /alcohol

Socialization with friends and family

Good sleep

Meditation

Dr. Ruby Bansal
Dr. Ruby Bansal

Once again, HAPPY NEW Year…

 

Dr Ruby Bansal (Jt. Secretory WOW)

MD, FIHM, OID

HOD Preventive health

SR Consultant HIV/AIDS

Yashoda superseniority hospital

Kaushambi, Ghaziabad

 

 

Happy new year to all of you

The new year can be an exciting time, brimming of fresh starts and new beginning.

It is also an opportunity to recommit to your health and well-being. Now the time is to make a resolve that:

I will eat better. Remember, one of the easiest and most sustainable ways to improve overall health is to eat whole foods, including vegetables, fruits, nuts, seeds, whole grains and fish, contain plethora of nutrients that your body needs to function at an optimal level.

Make a resolve to practice mindful eating. Creating a healthier relationship with food and taking better care of your body and mind can drastically improve your health in various ways.

Male a resolve as I will exercise three times each week.

I will drink more water.

Dr. Deepika Kohli
Dr. Deepika Kohli

May the new year bless you with health, wealth and happiness

Dr. Dipika Kohli (Jt. Secretary WOW)

A qualified and experienced dietitian and Nutritionist

 

bookmark_borderGreetings from the Secretary General WOW India

Greetings from the Secretary General WOW India

सबसे पहले सभी को नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएँ… सब सुखी रहे, स्वस्थ रहें और अपने लक्ष्य के प्रति अग्रसर रहे… सन 2020 में हम अपने सभी अधूरे कार्य पूर्ण करने में सक्षम हों यही हमारी कामना है…

WOW India जिसकी नींव 2009 में Delhi Gynaecologist Forum की Sister Organization के रूप में डॉ शारदा जैन और डॉ लक्ष्मी के प्रयासों के फलस्वरूप पड़ी थी – आज एक जानी मानी संस्था बन चुकी है | यह संस्था न तो कोई साम्प्रदायिक संस्था है, न धार्मिक और न ही किसी राजनीतिक दल से इसका कोई सम्बन्ध है | इसका एकमात्र उद्देश्य है महिलाओं के सर्वांगीण स्वास्थ्य की दिशा में प्रयास करना – उन्हें जागरूक करने के लिए – जिसमें शारीरिक स्वास्थ्य के साथ ही अध्यात्मिक, मानसिक, सामाजिक स्वास्थ्य भी आता है | इसमें समाज के प्रत्येक वर्ग की महिलाएँ जुडी हुई हैं और आगे भी जुडती रहेंगी |

हम सभी अपने परिवार के स्वास्थ्य का पूरा ध्यान रखती हैं, लेकिन दुर्भाग्य से हम अपने स्वयं के स्वास्थ्य की ही उपेक्षा करती रहती हैं | अब समय आ गया है कि हममें से जितनी भी महिलाएँ सशक्त हैं वे और अधिक जागरूक हों स्वयं को और अधिक सशक्त बनाने के लिए और अपने साथ दस अन्य महिलाओं को भी सशक्त और स्वस्थ बनाने का प्रयास करें | हमें एक साथ मिलकर प्रयास करना चाहिए कि समाज में कोई भी लड़की या महिला अनपढ़ न रहे, कोई निर्बल न रहे – शारीरिक या मानसिक किसी भी स्तर पर |

इसके लिए हमें कुछ विशेष बातों पर ध्यान देने की आवश्यकता होगी, जैसे…

  • प्रत्येक महिला और उसके परिवार को स्वास्थ्य के प्रति जागरूक करने का प्रयास करना है |
  • कन्याओं की Education पर ध्यान देने का प्रयास करना है |
  • Obesity और दूसरी अन्य Lifestyle Diseases के विषय में संस्था द्वारा चलाए जा रहे जागरूकता अभियान को आगे बढ़ाने का प्रयास करना है |
  • हम सभी अपना Annual Health Check-up कराएँगी और दूसरी महिलाओं को भी इसके लिए जागरूक करने का प्रयास करेंगी |
  • लड़कियों की Adolescent Health पर ध्यान देने का प्रयास करना है |
  • अधिक से अधिक लड़कियों और महिलाओं को Self Defense की ट्रेनिंग दिलाने का प्रयास करना है |
  • महिलाओं और लड़कियों के Legal rights and duties क्या हैं इस विषय में उन्हें जागरूक करने का प्रयास करना है |
  • Cyber Crime आज के युग में एक बहुत बड़ी समस्या बनी हुई है, इस दिशा में हर लड़की और महिला को जागरूक होने की आवश्यकता है |

    Greetings from the Secretary General WOW India
    Greetings from the Secretary General WOW India
  • पर्यावरण की सुरक्षा के प्रति जागरूकता अभियान चलाते हुए अधिक से अधिक तादाद में वृक्षारोपण का प्रयास करना है |

“प्रयास” शब्द का इस्तेमाल इसलिए किया है क्योंकि प्रयास और संकल्प ही सिद्ध होते हैं, यदि हम मन में कोई संकल्प लेकर उस दिशा में प्रयास ही नहीं करेंगे तो प्रगति अवरुद्ध हो जाएगी…

तो, आइये हम सब मिलकर संकल्प लें कि WOW India के Volunteer के रूप में हम सब अपने लक्ष्य की प्राप्ति की दिशा में अग्रसर रहेंगे और सफलता प्राप्त करेंगे… इसी के साथ एक बार पुनः आप सभी को नववर्ष की अनेकशः हार्दिक शुभकामनाएँ…

डॉ पूर्णिमा शर्मा, Secretary General, WOW India

bookmark_borderGreetings from the President of WOW India

Greetings from the President of WOW India

Greetings from WOW India for happy, healthy and prosperous New Year 2020.

The main aim of WOW India is to make women aware that they should keep themselves healthy so that they can serve their family, society as well as the nation. Our resolution for the New Year is that:

We will keep our environment clean and green.

We will keep ourselves motivated to help others in need.

Women are the backbone of the society so we have to be role model for others.

We have the infinite strength to do what we want.  We have many great women who have worked for others one such example is of Subhashini Mistry who is an Indian social worker. Her husband died as he could not get medical attention in Hanspukur, a remote village just about 20 km south of the city centre of Kolkata. Despite becoming a widow at the age of 23 years with 4 children, she struggled in life working as a house maid, selling vegetables, and as a manual labourer. She went on to build a charitable multispeciality hospital called “Humanity Hospital” for the poor. She was awarded India’s fourth highest civilian award the Padma Shri in 2018. Her resolution was “No one should die because they are poor”.

Thus “where there is a will there is a way”

Do something for others
Do something for others

We should all take a vow to do something for others in life which will not only help them but make us grow and transform ourselves. Take every opportunity which knocks at your door you will be blessed by the almighty.

Best wishes for a very happy New Year 2020.

Dr S. Lakshmi Devi, President WOW India

 

 

 

bookmark_borderGreetings for 2020 from our Chairperson & Mentor Dr. Sharda Jain

Greetings for 2020 from our Chairperson & Mentor Dr. Sharda Jain

Move onto 2020 with a fresh note

Your friends’ story – My comments

When I ( my friend ) started using pen in my middle school, and I made a mistake, I would try hard to erase it before submitting to my teacher.
Sometimes, I use chalk to clean my mistake but it later re-appeared.
So I began to use saliva, it worked, but only to leave holes in my books. My teachers then used to beat me for being outrageously dirty. But all I tried to do was to cover my error.
One day, a kind hearted teacher who loved me so much called me aside and he said, ” Anytime you make a mistake, just cross it and move on” . He said further “Trying to erase your mistakes would only damage your book to nothing.
I told him in protest that I don’t want people to see my mistake.

My loving teacher laughed and said ” Trying to erase your mistake will make more people know about your mess and the stigma is for life”.

HAPPY NEW YEAR
HAPPY NEW YEAR

My comments:

Have you made some mistakes in life? Cross it over and move on. Don’t expose yourself as a result of trying to cover your mistakes.

Better things are ahead of you.

Strike out your 2019 mistakes, highlight the bright spots of 2019 and move onto 2020 with a fresh note. 👍

& let’s play together KAGAZ KI NAAV

 

bookmark_borderसपने अवश्य देखें

सपने अवश्य देखें

हम सभी सपने देखने के आदी हैं | अक्सर हम सभी बातें करते हैं – हम ऐसा कर सकते हैं, हम वहाँ पहुँच सकते हैं, अमुक कार्य केवल हम ही पूर्ण कर सकते हैं, हम इस कार्य में तो सफल होंगे ही होंगे, हम इतना कुछ बदल सकते हैं… इत्यादि इत्यादि…

लेकिन केवल बातें करने भर से काम नहीं चला करता | सपने देखना अच्छी बात है जीवन में आगे बढ़ने के लिए | जो व्यक्ति सपना ही नहीं देखेगा वह कोई भी दिशा अपने लिए कैसे निर्धारित कर सकता है ? लेकिन इसके लिए कुछ बातों का ध्यान रखना भी अत्यन्त आवश्यक है…

सबसे पहले तो इच्छाशक्ति में दृढ़ता अत्यन्त आवश्यक है | हमने सोच तो लिया कि हम अमुक कार्य करना चाहते हैं, मन ही मन उसके पूर्ण होने की कल्पना से आनन्दित भी हो जाते हैं | लेकिन इतने भर से कार्य सम्पन्न नहीं हो जाता | हमें अपने मन में संकल्प लेना होगा कि चाहे जो हो जाए – अमुक कार्य को तो हमें पूरा करना ही है | जब इच्छाशक्ति में इस प्रकार की दृढ़ता होगी तभी हम उस कार्य को सम्पन्न करने में जी जान से जुटने का भी साहस दिखा सकते हैं, अन्यथा तो लाभ-हानि सफलता-असफलता का सोचकर या तो कार्य आरम्भ ही नहीं करेंगे, और यदि कर भी लिया तो उसे पूर्ण नहीं कर पाएँगे और निराश होकर बीच में ही छोड़ बैठेंगे |

Dr. Purnima Sharma
Dr. Purnima Sharma

कार्य को करने का साहस भी हमारे संकल्प से ही आता है | और दृढ़ इच्छाशक्ति तथा साहस मिलकर हमारे आत्मविश्वास में वृद्धि करते हैं | यदि इच्छाशक्ति यानी संकल्प शक्ति में दृढ़ता नहीं है, साहस और आत्मविश्वास में कमी है तो सारे सपने शेखचिल्ली के सपने बनकर रह जाते हैं |

जब हमारी इच्छाशक्ति दृढ़ हो जाए, साहस और आत्मविश्वास में वृद्धि हो जाए तब अपने लक्ष्य के प्रति एकाग्रचित्त होकर प्रयास आरम्भ कर देना चाहिए | जिसकी सबसे पहली सीढ़ी है उस कार्य के लिए कुशलता प्राप्त करना | हमें उस कार्य का ज्ञान हो सकता है क्योंकि हमने उसकी शिक्षा ली है, किन्तु जब तक पूर्ण कुशलता नहीं होगी तब तक कार्य में सफलता प्राप्त होने में सन्देह ही रहेगा | कुशलता के साथ ही उचित दिशा में प्रयास किया जा सकता है, अन्यथा अँधेरे में तीर मारने से कुछ हासिल नहीं होता |

इस सबके साथ ही कठोर परिश्रम भी आवश्यक है, क्योंकि परिश्रम किये बिना यदि कुछ प्राप्त हो जाता है तो उसके महत्त्व की उपेक्षा करना मानव का स्वभाव होता है | परिश्रम करके जब लक्ष्य सिद्ध हो जाता है तो एक तो अपार आनन्द की अनुभूति होती है, स्वयं पर गर्व का अनुभव होता है, और इतने अथक परिश्रम के बाद जो प्राप्त किया है उसे बनाए रखने तथा और कुछ अन्य नया करने का संकल्प दृढ़ होता जाता है…

तो, सपने अवश्य देखिये, सपने देखना मत छोड़िये… क्योंकि सपने ही सच होते हैं… लेकिन इतना ध्यान रखिये कि वे दिवास्वप्न या शेख़चिल्ली के सपने बनकर न रह जाएँ…

डॉ पूर्णिमा शर्मा