Call Us:

+91-11-22414049, 22453724

Email Us:

info@wowindia.info

bookmark_borderमानसिक तनाव और अवसाद

मानसिक तनाव और अवसाद

हम जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में सफल रहें और हमें किसी प्रकार का मानसिक तनाव न हो इसके लिए हमें जीवन भर कहीं न कहीं से कोई न कोई सलाह मिलती ही रहती है – यह करो, वह न करो – इत्यादि इत्यादि, और आप स्वयं को इस सुझावों के चक्रव्यूह में घिरा अनुभव करने लगते हैं | पर क्या आज के समय में ऐसा कोई व्यक्ति है जो तनाव रहित जीवन जी रहा हो ? कभी कभी तो लगता है कि ये तनाव मनुष्य के जीवन का अभिन्न अंग हैं | इनसे भागा नहीं जा सकता, हाँ इन्हें कम अवश्य किया जा सकता है | बहुत से तनाव तो ऐसे होते हैं कि जिनका कोई औचित्य ही नहीं होता | अनावश्यक रूप से हमने उन तनावों को ओढ़ लिया होता है |

इसलिए सबसे पहली आवश्यकता है कि हम अपने जीवन का, अपनी भावनाओं का और अपने परिवेश का अच्छी तरह आकलन करें | इससे हमें उन वस्तुओं, उन परिस्थितियों, उन सम्बन्धों को पहचानने में सहायता प्राप्त होगी जिनके कारण हमें तनाव होता है | उन बातों की एक सूची तैयार करें जिनके कारण हमें तनाव होता है | अब इस सूची में से उन बातों को खोजें जो हमारे लिए निरर्थक हैं और जिन्हें हम सरलता से अपने जीवन से निकाल सकते हैं | अब ईमानदारी के साथ इन्हें अपने जीवन से निकालने का प्रयास करें | इनमें से कुछ टेंशन तो ऐसी होंगी जिन्हें हम अपनी जीवनशैली यानी लाइफ स्टाइल में सुधार करके दूर कर सकते हैं |

साथ ही, सम्बन्धों के प्रति ईमानदार रहें | कुछ सम्बन्ध ऐसे भी होंगे जो हमारे लिए निरर्थक या हम पर बोझ होंगे और उनके कारण हमें निरन्तर तनाव का – नकारात्मकता का अनुभव होता होगा | उन सम्बन्धों को यदि छोड़ा भी नहीं जा सकता है तो कम से कम उनसे विनम्रता पूर्वक इतनी दूरी अवश्य बनाई जा सकती है कि वे आपको प्रभावित न कर सकें | सम्बन्ध परस्पर सम्मान की भावना पर आधारित होने चाहिएँ और उनमें किसी प्रकार की अपेक्षा दोनों ही ओर से नहीं होनी चाहिए | साथ ही, यदि आप विवाहित हैं, तो ध्यान रहे – विवाहेतर सम्बन्ध सदैव तनाव का कारण होते हैं |

अपने जीवन मूल्यों और अपने कार्य के प्रति निष्ठावान रहें | और अपने प्रति भी निष्ठावान रहें | ऐसा करने से आपका बहुत से तनाव स्वतः ही दूर हो जाएगा | बहुत से तनाव तो इसलिए भी उत्पन्न होते हैं कि हमें वो कार्य करने पड़ते हैं जिनमें हमारी रुचि नहीं होती | माता पिता या रिश्तेदारों ने कहा ये कोर्स कर लो, ये काम कर लो, उसमें रूचि है या नहीं – लेकिन करना पड़ जाता है | ऐसे में न तो उस कार्य में मन लगेगा और न ही उसमें पूर्ण कुशलता प्राप्त हो पाएगी | और यही सबसे कारण बन जाएगा मानसिक तनाव का – मानसिक अवसाद का | इसलिए प्रयास ऐसा करना चाहिए की आपकी शिक्षा दीक्षा यानी एजुकेशन और आपका व्यवसाय यानी प्रोफेशन आपकी रुचि का हो | केवल पैसा कमाने के लिए काम करेंगे तो तनाव स्वाभाविक है | और इस बात को आपके परिवारजनों को भी समझना आवश्यक है | भले ही आपको सपरिवार इसके लिए काउंसलिंग ही क्यों न लेनी पड़े | ऐसा करके आपको उचित दिशा निर्देश प्राप्त होगा और आप सफलतापूर्वक बिना किसी तनाव के अपना कार्य करने में सक्षम हो सकेंगे |

ध्यान रहे हमारे पास दिन भर में 24 घण्टे ही होते हैं, लेकिन हम सारे संसार को प्रसन्न रखना चाहते हैं – जिसके लिए 48 घण्टे भी कम पड़ जाते हैं और हम मानसिक तनाव में आ जाते हैं | इसलिए सोच समझ कर अपनी सामर्थ्य के अनुसार कार्य करना चाहिए |

यदि जीवन शैली और सोच इस प्रकार की होगी तो सरलता से एक ईमानदार, सत्यता से युक्त, आनन्दमय लेकिन सादा जीवन जी सकते हैं |

https://www.astrologerdrpurnimasharma.com/2020/06/27/mental-stress-and-depression/

 

bookmark_borderमानसिक शान्ति

मानसिक शान्ति

मानसिक शान्ति – जिसकी आजकल हर किसी को आवश्यकता है – चाहे वह किसी भी व्यवसाय से जुड़ा हो, गृहस्थ हो, सन्यासी हो – विद्यार्थी हो – कोई भी हो – हर किसी

Dr. Purnima Sharma
Dr. Purnima Sharma

का मन किसी न किसी कारण से अशान्त रहता है | और हम अपनी मानसिक अशान्ति का दोष अपनी परिस्थितियों तथा अपने आस पास के व्यक्तियों पर – समाज पर – मढ़ देते हैं | कितना भी ब्रह्म मुहूर्त में प्राणायाम, योग और ध्यान का अभ्यास कर लिया जाए, कितना भी चक्रों को जागृत कर लिया जाए – मन की अशान्ति, क्रोध, चिड़चिड़ापन और कई बार उदासी यानी डिप्रेशन भी – जाता ही नहीं | किन्तु समस्या यह है कि जब तक व्यक्ति का मन शान्त नहीं होगा तब तक वह अपने कर्तव्य कर्म भी सुचारु रूप से नहीं कर पाएगा, क्योंकि मन एक स्थान पर – एक लक्ष्य पर स्थिर ही नहीं रह पाएगा | हमने ऐसे लोग देखें हैं जो नियमित ध्यान का अभ्यास करते हैं, प्राणायाम, ध्यान और योग सिखाते भी हैं – लेकिन उनके भीतर का क्रोध, घृणा, लालच, दूसरों को नीचा दिखाने की उनकी प्रवृत्ति में कहीं किसी प्रकार की कमी नहीं दिखाई देती |

अस्तु, मन को शान्त करने के क्रम में सबसे पहला अभ्यास है मन को – अपने ध्यान को – उन बातों से हटाना जिनके कारण व्यवधान उत्पन्न होते हैं या मन के घोड़े इधर उधर भागते हैं | जब तक इस प्रकार की बातें मन में रहेंगी – मन का शान्त और स्थिर होना कठिन ही नहीं असम्भव भी है | इसीलिए पतंजलि ने मनःप्रसादन की व्याख्या दी है |

महर्षि पतंजलि ने ऐसे कुछ भावों के विषय में बताया है जो इस प्रकार की बाधाओं को दूर करने में सहायक होते हैं | ये हैं – मित्रता, करुणा या संवेदना और धैर्य तथा समभाव | निश्चित रूप से यदि मनुष्य इन प्रवृत्तियों को अपने दिन प्रतिदिन के व्यवहार में अपना लेता है तो नकारात्मक विचार मन में आने ही नहीं पाएँगे | किसी भी व्यक्ति के किसी विषय में व्यक्तिगत विचार हो सकते हैं | यदि उसके उन विचारों से किसी को कोई हानि नहीं पहुँच रही है तो हमें इसकी आलोचना करने का या उसे टोकने का कोई अधिकार नहीं | ऐसा करके हम अपना मन ही अशान्त नहीं करते, वरन अपनी साधना के मार्ग में व्यवधान उत्पन्न करके लक्ष्य से बहुत दूर होते चले जाते हैं |

अतः जब भी और जहाँ भी कुछ अच्छा – कुछ आनन्ददायक – कुछ सकारात्मक ऊर्जा से युक्त दीख पड़े – हमें सहज आनन्द के भाव से उसकी सराहना करनी चाहिए और यदि सम्भव हो तो उसे आत्मसात करने का प्रयास भी करना चाहिए, ताकि हमारे मन में वह आनन्द का अनुभव दीर्घ समय तक बना रहे – न कि अपनी व्यक्तिगत ईर्ष्या, दम्भ, अहंकार आदि के कारण उस आनन्ददायक क्षण से विरत होकर उदासी अथवा क्रोध की चादर ओढ़कर एक ओर बैठ जाया जाए | ऐसा करके आप न केवल उस आनन्द के क्षण को व्यर्थ गँवा देंगे, बल्कि चिन्ताग्रस्त होकर अपनी समस्त सम्भावनाओं को भी नष्ट कर देंगे | आनन्द के क्षणों में कुछ इतर मत सोचिए – बस उन कुछ पलों को जी लीजिये | इसी प्रकार जब कभी कोई प्राणी कष्ट में दीख पड़े हमें उसके प्रति दया, करुणा, सहानुभूति और अपनापन दिखाने में तनिक देर नहीं करनी चाहिए | आगे बढ़कर स्नेहपूर्वक उसे भावनात्मक अवलम्ब प्रदान चाहिए |

इस प्रकार चित्त प्रसादन के उपायों का पालन करके कोई भी व्यक्ति मानसिक स्तर पर एकाग्र तथा प्रसन्न अवस्था में रह सकता है | यदि हमारा व्यवहार ऐसा होगा – यदि इन दोनों बातों का अभ्यास हम अपने नित्य प्रति के जीवन में करेंगे – तो हमारा चित्त प्रसन्न रहेगा – और विश्वास कीजिये – इससे बड़ा ध्यान का अभ्यास कुछ और नहीं हो सकता | इस अभ्यास को यदि हम दोहराते रहते हैं तो कोई भी विषम परिस्थिति हमारा चित्त अशान्त नहीं कर पाएगी – किसी भी प्रकार का नकारात्मक विचार हमारे मन में नहीं उत्पन्न होने पाएगा और हमारा मन आनन्दमिश्रित शान्ति का अनुभव करेगा… डॉ पूर्णिमा शर्मा 

 

bookmark_borderआओ मिलकर कोरोना से लडें

आओ मिलकर कोरोना से लडें

आज प्रथम नवरात्र के साथ ही विक्रम सम्वत 2077 और शालिवाहन शक सम्वत 1942 का आरम्भ हो रहा है । सभी को नव वर्ष, गुडी पर्व और उगडी की हार्दिक शुभकामनाएँ…

कोरोना जैसी महामारी से सारा ही विश्व जूझ रहा है – एक ऐसा शत्रु जिसे हम देख नहीं सकते, छू नहीं सकते – पता नहीं कहाँ हवा में तैर रहा है और कभी भी किसी पर भी आक्रमण कर सकता है । और एक बात, जो बेचारा ग़रीब फुटपाथ पर सो रहा है उसके लिए ये वायरस शायद इतना ख़तरनाक नहीं है जितना मध्यम और उच्च वर्ग के लोगों के लिए हो सकता है । कारण ?

पहली बात तो उस ग़रीब का इम्यून सिस्टम बड़ा स्ट्रॉन्ग होता है क्योंकि न तो वो हमारी आपकी तरह से आर ओ का पानी पीता है न बार बार हाथों पर सेनिटाइजर लगाता है । हर दिन पसीना बहाता है तब कहीं जाकर दो वक़्त की रोटी का जुगाड़ कर पाता है और इस पसीने के साथ शरीर के बहुत सा विष बाहर निकाल फेंकता है | हम जैसे लोगों ने आर ओ का पानी पी पीकर अपना इम्यून सिस्टम बहुत कमज़ोर कर लिया है । प्रकृति से दूर हो गए हैं । सुख सुविधाओं के इतने अधिक अभ्यस्त हो चुके हैं कि पसीना बहाना हमें आता नहीं – योग या कसरत भी करते हैं तो वो भी एयरकंडीशंड जिम या घरों के एयरकंडीशंड कमरों में – पसीना कहाँ से बहेगा | दूसरे, उस ग़रीब का कोई परिचित या सगा सम्बन्धी विदेश से वापस नहीं आया है । न ही उसे हम पास बैठाते हैं, न ही उससे हाथ मिलाते हैं कि उसे वायरस लग जाएगा । और हमारे जैसे समझदार लोग जनता कर्फ्यू के दौरान शाम को पाँच बजे घरों से बाहर निकल कर जुलूस निकालते हैं, भँगड़ा करते हैं – जैसे कोई उत्सव मना रहे हों । क्योंकि हम लोग स्वयं को अनुशासन में रखना जानते ही नहीं । इसी कारण से देश भर में लॉकडाउन करना पड़ा सरकार को । माना इसके परिणाम आर्थिक रूप से अच्छे नहीं होंगे, लेकिन अगर जीवन बच गया और स्वास्थ्य सही रहा तो अर्थ व्यवस्था फिर से सुधरनी आरम्भ हो जाएगी ।

हमारे कुछ प्रिय मित्रों ने कहा “आप जैसे ज्योतिषी कुछ कर सकते हैं…” बड़ी हँसी आई मैसेज पढ़कर | भैया, ज्योतिषी कोई भगवान नहीं होता | उसने जो कुछ अध्ययन किया है उन्हीं सूत्रों और अपने अनुभवों के आधार पर फल कथन करता है कि ग्रहों के गोचर इस प्रकार के हैं, दशाएँ इस प्रकार की हैं तो इन सबके ये मिले जुले परिणाम हो सकते हैं | इसीलिये बार बार दोहराते हैं कि किसी अन्धविश्वास का शिकार होने से कोई लाभ नहीं | समस्या सबको दीख पड़ रही है, और इस समस्या का समाधान भी हमारे विचार से इस लॉकडाउन में ही है | तो, इस लॉकडाउन से घबराएँ नहीं । हमें ये 21 दिन का समय मिला है कि बैठकर आत्ममन्थन करें, कुछ सकारात्मक और रचनात्मक कार्य करें । कुछ स्वाध्याय में मन लगाएँ और मन को शान्त रखने के लिए तथा Positivity बनाए रखने के लिए ध्यान का अभ्यास करें | साथ ही जैसा हमारे प्रिय प्रधानमन्त्री ने कहा, स्वास्थ्य सेवाओं से जुड़े लोग रात दिन एक किये दे रहे हैं इस बीमारी की रोक थाम के लिए | पुलिस के लोग न जाने कितने लोगों के संपर्क में आते होंगे, लेकिन बिना किसी भय के अपनी ड्यूटी का पालन मुस्तैदी से कर रहे हैं | मीडिया कर्मी हमें जागरूक बनाए रखने के लिए पल पल की रिपोर्ट हम तक पहुँचा रहे हैं | हमारे घरों में राशन, दूध और दवाएँ आदि ज़रूरत के सामान पहुँचाने वाले लोग जो बिना डरे अपना कार्य कर रहे हैं | इन सभी को हृदय से धन्यवाद देते रहें | और जब कभी मन में किसी प्रकार की निराशा का भाव उत्पन्न हो तो उन लोगों के विषय में सोचें जो रोज़ कुआँ खोद कर पानी पीते हैं – यानी रोज़ मज़दूरी करते हैं तब उनके घरों में चूल्हे जलते हैं । हम लोगों के घरों में और कुछ भी नहीं तो इतना तो निकल ही आएगा कि नमक से रोटी खा लें, लेकिन उन बेचारों के पास तो ये सुविधा भी नहीं है ।

नवरात्र आरम्भ हो गए हैं, आवश्यक नहीं कि पूरे सामान के साथ कलश स्थापना न कर पाने से दुःखी हुआ जाए, घर में बैठकर माँ भगवती का ध्यान करें, जाप करें, पाठ करें और प्रार्थना करें कि संसार को इस समस्या से मुक्ति प्राप्त हो ।

माँ भगवती अपने नौ रूपों के साथ सभी का कल्याण करें…

bookmark_borderA humble request to all WOW members

🙏😊 A humble request to all WOW members 🙏😊
🙏😊 WOW India के सभी सदस्यों से एक विनम्र निवेदन 🙏😊

आप सभी से निवेदन है कृपा करके कल घरों में ही रहें, और सम्भव हो तो घरों में आपकी सहायता के लिए आने वाली महिलाओं (यानी कामवाली बाई जिन्हें आमतौर पर बोलते हैं), ड्राइवरों, प्रेस वालों, कार साफ़ करने वालों आदि की भी हार्दिक धन्यवाद सहित कल छुट्टी कर दें – लेकिन उनका वेतन न काटें । ऐसा आप स्वयं के, परिवार के, समाज व देश सभी के स्वास्थ्य के लिए करेंगे । ये जनता कर्फ्यू” कोई ऐसा कर्फ्यू नहीं है जहाँ पुलिस आपके हमारे सिरों पर खड़ी रहेगी, ये एक जागरूकता के लिए चलाया गया अभियान है । हम सब मिलकर कोरोना को तीसरे स्तर पर पहुँचने से रोक सकते हैं । नहीं तो दूसरे देशों का हाल हम सबने देखा ही है – जहाँ की जनसंख्या भी हमारे देश के मुक़ाबले बहुत कम है लेकिन कितनी तेज़ी से वहाँ महामारी फैली, कितनी लोगों को संक्रमित किया और कितनों की जान ले ली । हमें उस स्तर पर नहीं पहुँचना है । हमारी केन्द्र सरकार और सभी राज्य सरकारें अपने अपने स्तर पर बहुत अच्छे प्रयास कर रही हैं इसे रोकने के लिए – हमें अपने स्तर पर प्रयास करने होंगे – पैनिक हुए बिना – डरे बिना । साथ ही हमें अपने डॉक्टर्स और नर्सेज़ का धन्यवाद करना भी नहीं भूलना है जो रात दिन जान हथेली पर लेकर किसी बॉर्डर पर तैनात सिपाही की तरह हम सबका स्वास्थ्य सुरक्षित रखने में जुटे हुए हैं, और ऐसा केवलमात्र कल ही नहीं करना, जीवन के इन रक्षकों को तो सदा ही धन्यवाद देना चाहिए…

डॉ. पूर्णिमा शर्मा 🙏😊

A humble request to all WOW members
A humble request to all WOW members

bookmark_borderHomeopathy – A holistic specialized treatment option

Homeopathy – A holistic specialized treatment option

Homeopathy is an individualized mode of treatment which is tailor made for a particular patient. It was discovered more than two hundred years ago by a German doctor Dr. C S F Hahnemann. It is useful for a number of conditions and diseases.

The most interesting part about the treatment is that it can treat you even when you are not diagnosed with an illness but you have a lot of complaints. It can also treat you when you have one or many diseases diagnosed together. The homeopathic doctor asks you a detailed history of your complaints, your past medical history, your family history of diseases and your general symptoms. Based on this detailed history, your personal likes and dislikes, your sleep position etc. the doctor tries to understand what is wrong with your system and how it can be corrected.

The doctor prescribes medicines which have to be taken two or three times a day in pill form. These pills have very low-calorie value and are absolutely safe for diabetics as well. Sometimes weekly medicines are also given to boost your immunity so this prevents you from falling sick also. The doctor can manage your acute diseases as well as chronic diseases together. Regular treatment improves your quality of life and you understand your cause or causes of falling sick. Even if you have mental symptoms or emotional problems, the medicines can remove them without much delay.

The common myth about homeopathy being slow is no longer true because the treatment protocol is designed in a manner to give you speedy recovery. Another lesser known benefit of homeopathy is that it can treat problems which you forget to tell your doctor or which you are unaware of. If the treatment protocol suits you even those complaints that you never discussed would be taken care of over a period of time. This is because homeopathy acts on the functional level and the normal functioning of your organs is achieved.

It boosts your mental, spiritual, physical as well as emotional well-being and is the safest way to rediscover health.

 

 (Dr Priya Kapoor, BHMS, MD (Hom) is the is a Homeopathic consultant with over eighteen years of clinical experience. She is a graduate and post- graduate in Homeopathy from Nehru Homeopathic Medical College and Hospital, University of Delhi and Aurangabad respectively. She has the experience of working with a renowned homeopath Dr. Jugal Kishore for seven years and has been involved in researching and writing books on Homeopathy. She has the experience of working in Pushpanjali Crosslay hospital, now max Superspeciality for last ten years.)

bookmark_borderGreetings from our chairperson

Greetings from our chairperson

friends..,

Take one minute.. & spell your USP

Dr. Sharda Jain
Dr. Sharda Jain

Your special point..

We don’t stop dreaming and exploring because we grow old.

I strongly believe  ..We grow old because we stop dreaming and exploring… How to help others, my colleagues, my friends

My fundas are 3

Remain student alway. Curiosity to learn should never die… Otherwise u will atrophy fast.

put your 100 percent.enjoy what u do. It should be calling, passion.

Give helping hand to younstees & colleagues… & leave 🍁🍀🍂🍁🍀 a legacy… Jo mahakti rahe..

Aisee chaap  jo mitaye se bhee na mite

🙏 my blessings 👼🙏❤ & pranam on this great day

Sharda

bookmark_borderAdopt healthy lifestyle

Adopt healthy lifestyle

 Today’s Lifestyle is a Disease in itself

In India over the year with technology advancement and westernization there is tremendous change in life style of general population due to which life style diseases like diabetes, blood pressure, heart disease etc. are increasing:

Dr. Ruby Bansal
Dr. Ruby Bansal

There is an old proverb that says ‘prevention is better than cure.’ It is wiser to avoid a disease by following a healthy regimen of life than to contract it, and then seek remedies. Life is short, and, if a considerable part of it is taken up in inviting or not knowing diseases and then curing them, how will man manage to live a life worth the name? Every effort should be made to prevent health, troubles and difficulties.

In a recent few studies the largest disease burden or DALY rate increase from 1990 to 2016 was 80 percent for diabetes and 34 percent for ischemic heart disease. Another study published in the international journal Pediatric Obesity in October predicted that India would have over 17 million obese children by 2025 and would stand second among the 184 countries fighting childhood obesity. In a study by Imperial College London, pegged the number of people with high blood pressure to around 1.13 billion, of which around 200 million are Indians.

WHERE WE ARE:

  • Over 61 per cent of all deaths in India are due to lifestyle or non-communicable diseases (NCDs).
  • 26 per cent of all deaths in India happen due to cardiovascular diseases.
  • Every 12th Indian is said to be a diabetic.
  • 7 per cent of women and 18.6 per cent of men have been found to be overweight or obese.
  • More than 10 per cent of the country’s population over the age of 18 suffers from various kinds of mental illnesses
  • More than 1.73 million new cancer cases are likely to be recorded each year by 2020 in India. 
  • 25-40 million people in India could be suffering from food allergies.
  • India had an estimated 22.2 million chronic COPD patients and around 35 million chronic asthma patients in 2016

What all is needed: There is a need of self-realization, sensitization about health, lifestyle, and happiness. People need to look into their living, thinking, eating habits and sedentary life style stress full mind etc and its correction. There should be a “me” time in everyone’s life which means first to give time to yourself then to others if you are healthy then only be able to take care of your responsibilities, family and work.

Healthy Lifestyle
Healthy Lifestyle

Adopt healthy habits:

  • Regular brisk walk/exercise/ dancing /aerobics/yoga etc…
  • Balanced timely diet which includes right proportion of proteins, carbohydrates, fats, vitamins & minerals
  • Avoid junk food /aerated drinks
  • Avoid smoking /alcohol
  • Socialization with friends and family
  • Good sleep
  • Meditation

Dr Ruby Bansal

bookmark_borderAdults also need vaccine like children

Adults also need vaccine like children

You’re never too old to get vaccinated!

Adult immunization in India is the most ignored part of heath care services.

Dr. Ruby Bansal
Dr. Ruby Bansal

Vaccines protects us from many diseases like children adults also need vaccine many diseases are vaccine preventable like hepatitis b, flu, pneumonia, cervical cancer etc

And due to lack of information and not taking vaccine many people are falling sick and even dying with the vaccine preventable diseases.

Vaccines of adults is very important given that >25% of mortality are due to infectious diseases. Vaccines are recommended for adults on the basis of age, prior vaccinations, health conditions, lifestyle, occupation, and travel. There have been significant efforts to curb morbidity, mortality, and disability among adults particularly due to communicable diseases such as tetanus, diphtheria, pertussis, hepatitis A, hepatitis B, human papilloma virus, measles, mumps, rubella, meningococcus, pneumococcus, typhoid, influenza, and chickenpox.

Few vaccines needed by adults are why:

Protection from some childhood vaccines can wear off over time

  1. Diphtheria, tetanus, pertussis
  2. Viruses and bacteria change over time
  3. Influenza
  4. Immune systems tend to weaken over time, putting older adults at higher risk for VPDs
  5. Influenza, pneumococcus
  6. Adults with certain chronic or immuno-compromising conditions are more likely to develop complications from certain VPDs 1,2
  7. Shingles, pneumococcus
  8. Adults can infect others 3
  9. Adults who contract measles, mumps or pertussis (whooping cough) can infect infants who may not yet be fully immunized

Influenza vaccination

  • Administer 1 dose of age-appropriate inactivated influenza vaccine (IIV) or recombinant influenza vaccine (RIV) annually

Tetanus, diphtheria, and acellular pertussis vaccination

  • Administer to adults who previously did not receive a dose of tetanus toxoid, reduced diphtheria toxoid, and acellular pertussis vaccine (Tdap) as an adult or child (routinely recommended at age 11–12 years) 1 dose of Tdap, followed by a dose of tetanus and diphtheria toxoids (Td) booster every 10 years

Measles, mumps, and rubella vaccination

  • Administer 1 dose of measles, mumps, and rubella vaccine (MMR) to adults with no evidence of immunity to measles, mumps, or rubella

Varicella vaccination

Administer to adults without evidence of immunity to varicella 2 doses of varicella vaccine (VAR) 4–8 weeks apart if previously received no varicella-containing vaccine (if previously received 1 dose of varicella-containing vaccine, administer 1 dose of VAR at least 4 weeks after the first

 Human papillomavirus vaccination

  • Administer human papillomavirus (HPV) vaccine to females through age 26 years
  • The number of doses of HPV vaccine to be administered depends on age at initial HPV vaccination
  • Administer 3-dose series at 0, 1–2, and 6 months

Pneumococcal vaccination

  • Administer to immunocompetent adults aged 65 years or older 1 dose of 13-valent pneumococcal conjugate vaccine (PCV13), if not previously administered, followed by 1 dose of 23-valent pneumococcal polysaccharide vaccine (PPSV23) at least 1 year after PCV13; if PPSV23 was previously administered but not PCV13, administer PCV13 at least 1 year after PPSV23

Hepatitis B vaccination

  • Administer to adults who have a specific risk (see below), or lack a risk factor but want protection, 3-dose series of single antigen hepatitis B vaccine (HepB)
Adults also need vaccine like children
Adults also need vaccine like children

Dr Ruby Bansal, MD, FIHM

HOD preventive Health AND HIV/AIDS

Yashoda superspeciality hospital

Kaushambi, Ghaziabad

Jt. Secretary WOW India

 

Blanket Distribution

During a freezing cold day, our chairperson Dr. Sharda Jain was thinking that our organization WOW India can help some people to get relief from cold. She discussed with us about this and we decided to distribute some blankets to needy and poor person. The occasion was the Republic Day of our great and beautiful country. Yes, on 26th January WOW India distributed blankets to poor and needy people through National Youth Blind Association, I P Extension. I, Dr.  Lakshmi, Dr. Rashmi Jain, Banu Bansal, Pramila Malik and Sarita Rastogi were present on this occasion. Here are some photographs…

Blanket Distribution
Blanket Distribution

bookmark_borderRoutine and lifestyle

Routine and lifestyle

Dr. Purnima Sharma
Dr. Purnima Sharma

दिनचर्या और जीवन शैली

गत सात दिसम्बर को WOW India की ओर से Lifestyle diseases यानी एक अननुशासित दिनचर्या के कारण होने वाली बीमारियों पर चर्चा के लिए एक वर्कशॉप का आयोजन किया गया | आयोजन सफल रहा | लेकिन उसके बाद जब हमने रिपोर्ट पोस्ट की तो कुछ लोगों ने बात की कि आज के समय में जो लोग Working हैं, यानी कहीं नौकरी आदि करते हैं उनके लिए किसी भी दिनचर्या और जीवन शैली का पूरी शिद्दत से पालन करना असम्भव हो जाता है उनके कार्यभार और समय के अभाव के कारण | उनकी बात से हम सहमत हैं – बहुत से लोगों को – महिलाओं को भी और पुरुषों को भी – कई बार ऐसी नौकरी होती है जहाँ उन्हें शिफ्ट ड्यूटी करनी पड़ती है – कभी दिन की तो कभी रात की | इसलिए ऐसे लोगों का प्रश्न बिल्कुल सही है कि कैसे एक अनुशासित दिनचर्या और एक स्वस्थ जीवन शैली को अपनाया जा सकता है ?Read More