Call Us:

+91-11-22414049, 22453724

Email Us:

info@wowindia.info

bookmark_borderRelaxation Exercises

त्यौहारों और पर्वों का मौसम है, करवाचौथ, अहोई, दीपावली, भाई दूज, छठ पूजा जैसे बड़े बड़े त्यौहार इस महीने में आते हैं | तो तैयारियाँ तो चल रही होंगी जोर शोर से ? ऐसे मैं थकान भी हो रही होगी ? पर क्या आप जानती हैं कि योग की कुछ प्रक्रियाओं के द्वारा हम थकान से छुटकारा पाकर फिर से नई ऊर्जा अपने तन मन में अनुभव कर सकते हैं ? तो स्वागत है आपका मंगलवार 26 अक्तूबर को Zoom पर WOW India द्वारा आयोजित Workshop में दिन में 2 बजे से… जिसमें हमारे योगाचार्य श्री सत्येन्द्र कुमार जी सिखाएँगे कुछ इसी तरह के अभ्यास… जो लोग इसका लाभ उठाना चाहते हैं कृपया अपने नाम 7042321200 / 9811442448 में से किसी भी मोबाइल नंबर पर भेज सकते हैं… कार्यक्रम से जुड़ने के लिए नीचे दिए लिंक पर क्लिक करें…
सादर:
डॉ शारदा जैन, Chairperson WOW India
डॉ एस लक्ष्मी देवी, President WOW Inia
डॉ पूर्णिमा शर्मा, Secretary General WOW India
संस्था की कार्यकारिणी के सभी सदस्य
WOW India is inviting you to a scheduled Zoom meeting.
Topic: Some relaxesion exercises to relieve fatigue
Time: Oct 26, 2021 02:00 PM India
Join Zoom Meeting
https://us02web.zoom.us/j/88099965164?pwd=Z3pSKzVnRWwrbHVuU2V1dnpXZXFyZz09
Meeting ID: 880 9996 5164
Passcode: 764577

Relaxation Exercises
Relaxation Exercises

bookmark_borderReport of International Women’s Day Celebrations

Report of International Women’s Day Celebrations

International Women’s Day
International Women’s Day

Report of International Women’s Day Celebrations By WOW India & DGF

WOW India और DGF द्वारा आयोजित अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस समारोह पर एक रिपोर्ट  

कल आठ मार्च को डिज़िटल प्लेटफ़ॉर्म Zoom पर WOW India और DGF के द्वारा अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर रंगारंग कार्यक्रम के बीच Award Ceremony का आयोजन किया गया | कार्यक्रम का आरम्भ दन्त चिकित्सक डॉ दीप्ति भल्ला के गाए थीम के साथ हुआ | डॉ भल्ला ने प्रसिद्ध गायिका सोना महापात्र के गाए प्रसिद्ध गीत “दीवारें ऊँची हैं गलियाँ हैं कम” को बहुत ही ख़ूबसूरत अन्दाज़ में प्रस्तुत किया, जिसे स्वाति चक्रवर्ती ने लिखा था और आमिर खान के प्रसिद्ध प्रोजेक्ट “सत्यमेव जयते” के लिए राम संपथ ने कम्पोज़ किया था | इस गीत के बजते ही जैसे समा बन्ध गया |

Dr. Sharda Jain
Dr. Sharda Jain

कार्यक्रम के आरम्भ में WOW India की Chairperson डॉ शारदा जैन ने महिलाओं का आह्वाहन किया कि वे नियमित रूप से अपने स्वास्थ्य की जाँच कराती रहें ताकि एक स्वस्थ जीवन व्यतीत कर सकें | साथ ही ये भी कि हमें अपने महिला होने पर और अपनी उपलब्धियों पर गर्व करना चाहिए – और इस वर्ष की थीम का उद्देश्य भी यही है | एक और बड़ी सारगर्भित बात उन्होंने कही कि व्यक्ति जीवन भर विद्यार्थी तो बना ही रहता है, लेकिन हमें शिक्षक बनना आना चाहिए – हम जो भी सीखें उसे हमें दूसरों की सिखाना चाहिए – तभी हम अपने लक्ष्य को प्राप्त कर सकेंगे कि एक समर्थ महिला अपने साथ साथ अन्य महिलाओं को भी समर्थ बनाने की दिशा में प्रयास करे |

इस वर्ष की महिला दिवस की थीम थी Choose to Challenge, जिसके विषय में बोलते हुए संस्था की Secretary

Dr. Purnima Sharma
Dr. Purnima Sharma

General डॉ पूर्णिमा शर्मा ने कहा कि इस थीम का उद्देश्य यही है कि हम गली सड़ी उन रूढ़ियों को चुनौती दे सकते हैं जो नारी को दबाने के पक्ष में हों, बहुत से पूर्वाग्रहों को चुनौती दे सकती हैं जो हमें आगे बढ़ने से रोकते हों, जो भी नारी के विषय में यदि ग़लत धारणाएँ हैं उन्हें चुनौती के लिए चुन सकती हैं, साथ ही समाज में महिलाओं की स्थिति को सुधारने और उनकी उपलब्धियों का जश्न मनाने की चुनौती को चुन सकती हैं, इसी तरह की बहुत सी चुनौतियों के लिए आगे आया जा सकता है | साथ ही उनका कहना था कि इस थीम का एक ये आशय भी है कि अपने विचारों और अपने कर्तव्यों के लिए हम स्वयं ज़िम्मेदार हैं – हमें ज़िम्मेदारी लेनी ही होगी यदि हम एक जागरूक नागरिक कहलाना चाहते हैं और साथ ही समाज को अपनी सुसंस्कृत सन्तानों के रूप में आदर्श नागरिक देना चाहती हैं तो | एक महिला होने के नाते हमारी ये ज़िम्मेदारी भी बनती है कि हम समाज से असमानता और लिंग भेद के कारण जो महिलाओं पर अत्याचार होते हैं या महिलाओं को कम करके आँका जाता है उसे समाप्त करने की दिशा में क़दम उठाएँ

संस्था की उपाध्यक्ष बानू बंसल और सदस्य सरिता रस्तोगी ने दीप प्रज्वलित करके कार्यक्रम का विधिवत उद्घाटन किया और साथ ही पूजा श्रीवास्तव जी ने अपनी सुमधुर वाणी में स्वरचित माँ वाणी की वन्दना प्रस्तुत की |

संस्था की अध्यक्ष डॉ एस लक्ष्मी देवी ने संस्था के विषय में बताते हुए संस्था की गतिविधियों और उद्देश्यों पर बात की साथ ही श्रीमद्भगवद्गीता के एक श्लोक का उद्धरण

Dr. S Lakshmi Devi
Dr. S Lakshmi Devi

प्रस्तुत करते हुए संस्था के सदस्यों की प्रशंसा करते हुए उनका उत्साहवर्धन भी किया की कोरोना के आतंक और लॉकडाउन के चलते हुए भी संस्था के सदस्यों ने हार नहीं मानी और टेक्नोलोजी का लाभ उठाते हुए डिज़िटल प्लेटफ़ॉर्म पर अपने कार्यक्रम निरन्तर करते रहे | डॉ लक्ष्मी ने इस अवसर पर एक बहुत ख़ूबसूरत गीत “उदय हुआ नवयुग का सूरज, जगी देश की नारी” अपनी सुरीली आवाज़ में प्रस्तुत किया | साथ ही उन्होंने कार्यक्रम की मुख्य अतिथि प्रसिद्ध शिक्षाविद डॉ प्रभजोत कुलकर्णी के विषय में बताते हुए उनका स्वागत भी किया | संस्था की ओर से डॉ कुलकर्णी को एक प्रशस्ति चिह्न भी भेंट किया गया |

मुख्य अतिथि के रूप में बोलते हुए डॉ प्रभजोत कुलकर्णी ने WOW India के द्वारा 2019 में अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस पर प्रस्तुत एक नाटिका “बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ हुनर सिखाओ” की चर्चा करते हुए इच्छा व्यक्त की कि हम लोग यदि स्कूल कॉलेजेज़ में भी Awareness program के अन्तर्गत इस तरह की छोटी छोटी झलकियाँ प्रस्तुत कर सकें तो अच्छा रहेगा | साथ ही ये भी कि हम लोग जिस तरह पहले स्कूल कॉलेजेज़ में हेल्थ चेकअप पर भी ध्यान दें |

Dr. Prabhjot Kulkarni
Dr. Prabhjot Kulkarni

उनका ये प्रस्ताव वास्तव में संस्था के लिए गौरव की बात है और इस दिशा में संस्था कार्य भी करेगी | डॉ कुलकर्णी ने इस बात पर चिन्ता भी ज़ाहिर की कि महिला दिवस पर तो हम सब महिलाओं की, कन्याओं की तारीफें करते हैं, लेकिन अभी भी समाज में बहुत सी ऐसी कुरीतियाँ विद्यमान हैं जो निकल जानी चाहियें | और ये भी कि इस कार्य के लिए महिलाओं को ही आगे आना होगा – और Choose to Challenge थीम का उद्देश्य भी यही है | यदि एक महिला अपने आपमें सशक्त होगी, Perfect होगी तो उसका परिवार सशक्त होगा, परिवार सशक्त होगा तो समाज सशक्त होगा और समाज सशक्त होने से देश सशक्त होगा |

इस सबके बाद आरम्भ हुआ Award ceremony और रंगारंग कार्यक्रमों का धमाकेदार सिलसिला | इस वर्ष WOW India और DGF ने अपनी Branch Presidents को Woman of the Year Award से सम्मानित किया | Awardees हैं EDGF की President डॉ. ज्योति अग्रवाल, WOW India की सूर्य नगर ब्रांच की President अर्चना गर्ग, WOW India की योजना विहार ब्रांच की President विमलेश अग्रवाल. WOW India की IPEX ब्रांच की President रचना सरीन और WOW India की इन्द्रप्रस्थ ब्रांच की President मोनिका भार्गव |

इस अवसर पर बहुत ख़ूबसूरत नृत्य भी हमारे सदस्यों ने प्रस्तुत किये | जिनमें WOW India की यंग ब्रिगेड से नन्दिनी भार्गव, सान्या गोयल और युवी कपूर ने, WOW India की IPEX ब्रांच से रचना सरीन, अलका श्रीवास्तव और बाला अबरोल ने और सूर्य नगर ब्रांच से अर्चना गर्ग, रेखा अस्थाना, नेहा मनकानी, रूबी शोम, सुनन्दा श्रीवास्तव, उषा रस्तोगी और सुधा मनकानी ने बड़ी उत्साहपूर्ण और मनमोहक नृत्य प्रस्तुतियाँ दीं | इनके अतिरिक्त मोनिका शर्मा और उनकी बेटी नव्या शर्मा ने एक बहुत

Mrs. Banu Bansal
Mrs. Banu Bansal

ही सुन्दर नृत्य प्रस्तुत किया | IPEX Branch की पूजा टंडन, वन्दना वर्मा और शिल्पी गोयल तथा योजना विहार ब्रांच की विमलेश अग्रवाल की नृत्य प्रस्तुतियाँ हम कल पहले ही यू ट्यूब पर अपलोड कर चुके थे |

अन्त में WOW India की Secretary General डॉ पूर्णिमा शर्मा ने WOW India के Vision & Mission से सदस्यों को अवगत कराया और फिर संस्था की उपाध्यक्ष बानू बंसल जी के धन्यवाद प्रस्ताव के साथ कार्यक्रम का समापन हुआ | कार्यक्रम का संचालन WOW India की Cultural Secretary लीना जैन ने किया | उन्होंने जिस तरह से सारे कार्यक्रम को अपनी ठहरी हुई शैली में एक सिलसिलेवार तरीक़े से कहानी बुनते हुए प्रस्तुत किया वह वास्तव में बहुत सराहनीय रहा और उसके कारण कार्यक्रम में और चार चाँद लग गए | इसके लिए लीना जैन बधाई की पात्र हैं |

आज ही हम सारे कार्यक्रम को अपने यू ट्यूब चैनल पर अपलोड करके उसका लिंक आप सबके साथ साँझा करेंगे ताकि जो लोग कार्यक्रम में उपस्थित नहीं हो सके वे भी इस कार्यक्रम का आनन्द उठा सकें |

रिपोर्ट: डॉ पूर्णिमा शर्मा, Secretary General WOW India

bookmark_borderRitu Vasant Ab Chehak Uthi

Ritu Vasant Ab Chehak Uthi

Dr. Purnima Sharma
Dr. Purnima Sharma

ऋतु वसन्त अब चहक उठी

आज वसन्त पञ्चमी का वासन्ती पर्व है और हम सब माँ वाणी का अभिनन्दन करेंगे | माँ वाणी – सरस्वती – विद्या की – ज्ञान की देवी हैं | ज्ञान का अर्थ है शक्ति प्राप्त करना, सम्मान प्राप्त करना | ज्ञानार्जन करके व्यक्ति न केवल भौतिक जीवन में प्रगति कर सकता है अपितु मोक्ष की ओर भी अग्रसर हो सकता है | पुराणों में कहा गया है “सा विद्या या विमुक्तये” (विष्णु पुराण 1/19/41) अर्थात ज्ञान वही होता है जो व्यक्ति को मोक्ष के मार्ग पर अग्रसर करे | मोक्ष का अर्थ शरीर से मुक्ति नहीं है | मोक्ष का अर्थ है समस्त प्रकार के भयों से मुक्ति, समस्त प्रकार के सन्देहों से मुक्ति, समस्त प्रकार के अज्ञान – कुरीतियों – दुर्भावनाओं से मुक्ति – ताकि व्यक्ति के समक्ष उसका लक्ष्य स्पष्ट हो सके और उस लक्ष्य तक पहुँचने का मार्ग स्पष्ट हो सके | हम सब ज्ञान प्राप्त करके भय तथा सन्देहों से मुक्त होकर अपना लक्ष्य निर्धारित करके आगे बढ़ सकें इसी कामना के साथ सभी को वसन्त पञ्चमी और सरस्वती पूजा की हार्दिक शुभकामनाएँ…

अभी पिछले दिनों कड़ाके की ठण्ड पड़ रही थी | वसन्त के आगमन के साथ ही सर्दी में भी कुछ कमी सी है | और ऐसे सुहाने मौसम में ऋतुराज वसन्त के स्वागत में प्रकृति के कण कण को उल्लसित करता हुआ वसन्त पञ्चमी का अर्थात मधुऋतु का मधुमय पर्व…

कितना विचित्र संयोग है कि इस दिन एक ओर जहाँ ज्ञान विज्ञान की अधिष्ठात्री देवी माँ सरस्वती को श्रद्धा सुमन समर्पित किये जाते हैं वहीं दूसरी ओर प्रेम के देवता कामदेव और उनकी पत्नी रति को भी स्नेह सुमनों के हार से विभूषित किया जाता है |

कालिदास के अभिज्ञान शाकुन्तलम् और ऋतुसंहार तथा बाणभट्ट के कादम्बरी और हर्ष चरित जैसे अमर ग्रन्थों में वसन्त ऋतु का तथा प्रेम के इस मधुर पर्व का इतना सुरुचिपूर्ण वर्णन उपलब्ध होता है कि जहाँ या तो प्रेमीजन जीवन भर साथ रहने का संकल्प लेते दिखाई देते हैं या फिर बिरहीजन अपने प्रिय के शीघ्र मिलन की कामना करते दिखाई देते हैं | संस्कृत ग्रन्थों में तो वसन्तोत्सव को मदनोत्सव ही कहा गया है जबकि वसन्त के श्रृंगार टेसू के पुष्पों से सजे वसन्त की मादकता देखकर तथा होली की मस्ती और फाग के गीतों की धुन पर हर मन मचल उठता था | इस मदनोत्सव में नर नारी एकत्र होकर चुन चुन कर पीले पुष्पों के हार बनाकर एक दूसरे को पहनाते और एक दूसरे पर अबीर कुमकुम की बौछार करते हुए वसन्त की मादकता में डूबकर कामदेव और उनकी पत्नी रति की पूजा करते थे | यह पर्व Valentine’s Day की तरह केवल एक दिन के लिए ही प्रेमी जनों के दिलों की धड़कने बढ़ाकर शान्त नहीं हो जाता था, अपितु वसन्त पञ्चमी से लेकर होली तक सारा समय प्रेम के लिए समर्पित होता था | आज भी बंगाल, उड़ीसा, उत्तर प्रदेश और उत्तराँचल सहित देश के अनेक अंचलों में पीतवस्त्रों और पीतपुष्पों में सजे नर-नारी बाल-वृद्ध एक साथ मिलकर माँ वाणी के वन्दन के साथ साथ प्रेम के इस देवता की भी उल्लासपूर्वक अर्चना करते हैं |

इस सबके पीछे कारण यही है कि इस समय प्रकृति में बहुत बड़े परिवर्तन होते हैं | सर्दियों की विदाई हो जाती है… प्रकृति स्वयं अपने समस्त बन्धन खोलकर – अपनी समस्त सीमाएँ तोड़कर – प्रेम के मद में ऐसी मस्त हो जाती है कि मानो ऋतुराज को रिझाने के लिए ही वासन्ती परिधान धारण कर नव प्रस्फुटित कलिकाओं से स्वयं को सुसज्जित कर लेती है… जिनका अनछुआ नवयौवन लख चारों ओर मंडराते भँवरे गुन गुन करते वसन्त का राग आलापने लगते हैं… और प्रकृति की इस रंग बिरंगी छटा को देखकर मगन हुई कोयल भी कुहू कुहू का गान सुनाती हर जड़ चेतन को प्रेम का नृत्य रचाने को विवश कर देती है… इसीलिए तो वसन्त को ऋतुओं का राजा कहा जाता है…

और संयोग देखिए कि आज ही के दिन नूतन काव्य वधू का अपने गीतों के माध्यम से नूतन श्रृंगार रचने वाले प्रकृति नटी के चतुर चितेरे महाप्राण निराला का जन्मदिवस भी धूम धाम से मनाया जाता है… यों निराला जी का जन्म 21 फरवरी 1899 यानी माघ शुक्ल एकादशी को हुआ था… लेकिन प्रकृति के सरस गायक होने के कारण 1930 से वसन्त पञ्चमी को उनका जन्मदिवस मनाने की प्रथा आरम्भ हुई…

तो, वसन्त के मनमोहक संगीत के साथ सभी मित्रों को सरस्वती पूजन, निराला जयन्ती तथा प्रेम के मधुमय वासन्ती पर्व वसन्त पञ्चमी की हार्दिक शुभकामनाएँ… इस आशा और विश्वास के साथ कि हम सब ज्ञान प्राप्त करके समस्त भयों तथा सन्देहों से मोक्ष प्राप्त कर अपना लक्ष्य निर्धारित करके आगे बढ़ सकें… ताकि अपने लक्ष्य को प्राप्त करके उन्मुक्त भाव से प्रेम का राग आलाप सकें…

संग फूलों की बरात लिए लो ऋतु वसन्त अब चहक उठी ||

कोयल की तान सुरीली सी, भँवरे की गुँजन रसभीनी

सुनकर वासन्ती वसन धरे, दुलहिन सी धरती लचक उठी |

धरती का लख कर नवयौवन, लो झूम उठा हर चरन चरन

हर कूल कगार कछारों पर है मधुर रागिनी झनक उठी ||

ऋतु ने नूतन श्रृंगार किया, प्राणों में भर अनुराग दिया

सुख की पीली सरसों फूली, फिर नई उमंगें थिरक उठीं |

पर्वत टीले वन और उपवन हैं झूम रहे मलयानिल से

लो झूम झूम कर मलय पवन घर द्वार द्वार पर महक उठी ||

_____________कात्यायनी

 

bookmark_borderReport of Women’s Day Program

Report of Women’s Day Program

आठ मार्च को अईपैक्स भवन पटपरगंज में WOW India और DGF के द्वारा अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर रंगारंग कार्यक्रम के बीच Award Ceremony का आयोजन किया गया | कार्यक्रम का विषय था महिलाओं की सुरक्षा और इसी विषय पर एक छोटे से संवाद के साथ WOW India के सदस्यों ने कार्यक्रम का आरम्भ किया |

Dr. Purnima Sharma
Dr. Purnima Sharma

WOW India की सेक्रेटरी जनरल डॉ पूर्णिमा शर्मा के कॉन्सेप्ट स्क्रिप्ट को WOW India की कल्चरल सेक्रेटरी लीना जैन के निर्देशन में प्रेसीडेंट डॉ एस लक्ष्मी देवी के साथ मिलकर बानू बंसल, डॉ रूबी बंसल, डॉ प्रिया कपूर, डॉ दीपिका कोहली, डॉ रश्मि जैन, डॉ इंदु त्यागी, सरिता रस्तोगी और सुषमा अग्रवाल ने बड़े अच्छे से पूर्ण ऊर्जा के साथ प्रस्तुत किया | उसके बाद WOW India की Chairperson डॉ शारदा जैन ने महिला सशक्तीकरण के विषय में अपने विचार व्यक्त किये और WOW India की President डॉ एस लक्ष्मी देवी ने WOW India की आरम्भ से लेकर अभी तक की यात्रा के विषय में दर्शकों को अवगत कराया | कार्यक्रम का सफल संचालन लीना जैन ने किया |

कार्यक्रम का मुख्य आकर्षण था परम पूज्या दीदी माँ साध्वी ऋतम्भरा जी को सुनना | दीदी माँ ने वैदिक काल से लेकर रामायण महाभारत काल से होते हुए आधुनिक काल तक की नारियों की यात्रा के सारगर्भित वर्णन के साथ ही महिलाओं को सुझाव भी दिया कि हमें अपने घर में बच्चों को संस्कारित करने की आवश्यकता है ताकि महिलाओं के साथ दिन प्रतिदिन होते रहने वाले अपराधों में कभी तो कमी आए | दीदी माँ का कहना था कि सदा लड़कियों को ही क्यों टोका जाता है उनके वस्त्रों के लिए, उनके कार्य के लिए ? इसके बजाए आवश्यकता है हमें अपने परिवारों में बचपन से ही संस्कारों की डालने की ताकि ऐसी कोई समस्या ही उत्पन्न न हो, और एक माँ इस कार्य को जितनी दृढ़ता तथा भावुकता के साथ कर सकती है उतनी दृढ़ता और भावुकता के साथ कोई अन्य इस कार्य को नहीं कर सकता |

कार्यक्रम में जयपुर घराने की विश्व प्रसिद्ध कत्थक नृत्यांगना सुश्री प्रेरणा श्रीमाली को शास्त्रीय नृत्य के क्षेत्र में उनके अभूतपूर्व योगदान के लिए Women’s Day Legendary Award से सम्मानित किया गया | संगीत जैसी कलाओं के क्षेत्र में आज के युग में भी संगीत प्रशिक्षण के महत्त्वपूर्ण अंग “गुरु-शिष्य परम्परा” को जीवित बनाए रखने वाले कुछ प्रसिद्ध गुरुओं में प्रेरणा जी की गणना की जाती है | इस अवसर पर बोलते हुए प्रेरणा जी का भी यही प्रश्न था कि विश्व की आधी आबादी यानी महिलाओं को पुरुषों से कम करके क्यों आँका जाता है ? अभी भी क्यों बहुत से स्थानों पर लड़कियों के शाम के बाद घर से बाहर निकलने पर रोक लगा दी जाती है ? और यदि उन्हें जाना भी हो भाई साथ में जाएगा – भले ही वह भाई उनसे दस बरस छोटा ही क्यों न हो ? वास्तव में ये ऐसे ज्वलन्त प्रश्न हैं कि इनके उत्तर तो हम सबको मिलकर खोजने ही होंगे |

इसके अतिरिक्त महिलाओं के स्वास्थ्य के क्षेत्र में सराहनीय योगदान के लिए अत्यन्त योग्य डॉ दीप्ति नाभ को Excellence Award से सम्मानित किया गया | डॉ नाभ Senior Consultant Obstetrician & Gynaecologist & Infertility Expert हैं |

सुश्री योगिता भयाना को समाज सेवा के क्षेत्र में उनके द्वारा किया जा रहे महिलाओं से सम्बन्धित कार्यों के लिए – विशेष रूप से बलात्कार से पीड़ित महिलाओं के लिए जो कार्य वे कर रही हैं उसके लिए – Excellence Award से सम्मानित किया गया | सुश्री भयाना ने हाल ही में UN में अपील की है कि निर्भया काण्ड के चारों दरिन्दों को जिस दिन फाँसी पर लटकाया जाएगा उस दिन को अन्तर्राष्ट्रीय महिला सुरक्षा दिवस के रूप में मनाए जाने की घोषणा की जाए |

संगीत और कला के क्षेत्र में Excellence Award दिया गया प्रसिद्ध उड़ीसी नृत्यांगना आम्रपाली गुप्ता जी को जिन्हें नृत्य की विधा परम्परागत रूप में विरासत में अपनी पूज्या माता जी से प्राप्त हुई |

इनके अतिरिक्त कुछ Appreciation Awards भी दिए गए | जिनमें: डॉ मीनाक्षी शर्मा को स्वास्थ्य के क्षेत्र में, योजना विहार शाखा की श्रीमती बिमलेश अग्रवाल, इन्द्रप्रस्थ शाखा की श्रीमती सुनीता अरोड़ा और अईपैक्स ब्रांच की श्रीमती वन्दना वर्मा को समाज सेवा के क्षेत्र में, सूर्य नगर ब्रांच की श्रीमती रेखा अस्थाना को शिक्षा के क्षेत्र में तथा इन्द्रप्रस्थ ब्रांच की ही श्रीमती राजेश्वरी भार्गव को संगीत और नृत्य के क्षेत्र में Appreciation Awards से सम्मानित किया गया | सूर्य नगर ब्रांच की श्रीमती सविता कृपलानी और इन्द्रप्रस्थ ब्रांच की Study Seven seas नाम से विदेशों में मेडिकल के पढ़ाई के इच्छुक विद्यार्थियों के लिए Consultancy Services देने वाली श्रीमती पारुल शर्मा को Best Coordinator के रूप में सम्मानित किया गया | सूर्यनगर तथा इन्द्रप्रस्थ शाखाओं को विभिन्न क्षेत्रों में बेस्ट ब्रांच का अवार्ड दिया गया |

सभी ब्रान्चेज़ की सदस्यों ने तथा Delhi Gynaecologist Forum की मेम्बर्स ने रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किये जिन्हें देखकर खचाखच भरे हॉल में दर्शकगण भी झूमे बिना न रह सके | सबसे आकर्षक कार्यक्रम रहा आम्रपाली गुप्ता जी की दो शिष्याओं अनुप्रिया शर्मा और साँवरी सिंह के शास्त्रीय नृत्य जिनमें आम्रपाली जी के ही नृत्य की झलक देखने को मिली |

खाना और चाट तो स्वाद थी ही जिसका सभी ने लुत्फ़ उठाया | कुल मिलाकर कार्यक्रम बेहद उल्लासमय, उत्साहमय और सफल रहा | 

डॉ पूर्णिमा शर्मा