Call Us:

+91-11-22414049, 22453724

Email Us:

info@wowindia.info

Blog

bookmark_borderInternational women’s day program

International women’s day program

WOW India and DGF organized an Award Ceremony in IPEX Bhawan Patparganj on 8 March on the occasion of International Women’s Day with a colorful event. Program was hosted by the Cultural Secretary of WOW India Mrs. Leena Jain. Here is the Rashtragan by the Government Body members of WOW India…

https://youtu.be/FEc9KzjcA0A

 

WOW India and DGF organized an Award Ceremony in IPEX Bhawan Patparganj on 8 March on the occasion of International Women’s Day with a colorful event. Program was hosted by the Cultural Secretary of WOW India Mrs. Leena Jain. Here, Dr. Purnima Sharma, Secretary General giving an introduction of the program…

https://youtu.be/k2bl7lBQ3XM

 

WOW India and DGF organized an Award Ceremony in IPEX Bhawan Patparganj on 8 March on the occasion of International Women’s Day with a colorful event. Program was hosted by the Cultural Secretary of WOW India Mrs. Leena Jain. On this occasion, Dr. Sharada Jain, Chairperson of WOW India, expressed her views on the empowerment of women…

https://youtu.be/3XJMe9L454o

 

WOW India and DGF organized an Award Ceremony in IPEX Bhawan Patparganj on 8 March on the occasion of International Women’s Day with a colorful event. Program was hosted by the Cultural Secretary of WOW India Mrs. Leena Jain. On this occasion, Dr. S. Lakshmi Devi, President of WOW India informed the audience about the journey of WOW India from the beginning till now…

https://youtu.be/bVaD7Amz0rI

bookmark_borderReport of 8th March program

Report of 8th March program

WOW India and DGF organized an Award Ceremony in IPEX Bhawan Patparganj on 8 March on the occasion of International Women’s Day

Dr. Purnima Sharma
Dr. Purnima Sharma

with a colorful event. The theme of the program was safety of women and with a small dialogue on the same subject, the members of WOW India started the program.

The conceptualization & script-writing was of Dr. Purnima Sharma, Secretary General of WOW India, which was directed by the Cultural Secretary of WOW India Leena Jain. WOW India President Dr. S. Lakshmi Devi with Banu Bansal, Dr. Ruby Bansal, Dr. Priya Kapoor, Dr. Deepika Kohli, Dr. Rashmi Jain, Dr. Indu Tyagi, Sarita Rastogi and Sushma Aggarwal presented it with full enthusiasm.  After that, Dr. Sharada Jain, Chairperson of WOW India, expressed his views on the empowerment of women and Dr. S. Lakshmi Devi, President of WOW India informed the audience about the journey of WOW India from the beginning till now. Leena Jain successfully conducted the program.The main attraction of the program was to listen to Didi Maa Sadhvi Ritambhara ji. Didi Maa Narrated the journey of women started from Vedic period to modern period, also suggested that it’s the duty of a woman to give good values to her children since childhood – especially boys – so that they can learn to respect other women.Renowned Kathak dancer Ms. Prerana Shrimali of Jaipur Gharana was awarded with International Women’s Day Legendary Award for her unprecedented contribution in the field of classical dance. She is an Inspiration for all gurus to keep alive the “Guru-Shishya tradition”, an important part in the field of arts like music & dance. Speaking on this occasion, Prerana ji also worried that why half the population of the world, i.e. women, are considered lower than the men? Why are girls still banned from leaving the house after dusk in many places? And even if they have to go, the brother will accompany them – even if that brother is ten years younger than them? In fact, these are such burning questions that we all have to find answers together.Apart from this, the highly qualified Dr. Deepti Nabh was awarded with the Excellence Award for her commendable contribution in the field of women’s health. Dr. Nabh is Senior Consultant Obstetrician & Gynaecologist & Infertility Expert. Ms. Yogita Bhayana was awarded with the Excellence Award – for the work she is doing in the field of social service – especially for rape victims. Mrs. Amropali Gupta, the famous Odissi dancer, awarded with the Excellence Award in the field of music and art. Some Appreciation Awards were given. Awardees are:  Dr. Meenakshi Sharma in the field of health, Mrs. Bimlesh Agarwal of Yojana Vihar branch, Mrs. Sunita Arora of Indraprastha branch and Mrs. Vandana Verma of IPEX branch in the field of social service, Mrs. Rekha Asthana of Surya Nagar branch in the field of education and Mrs. Rajeshwari Bhargava of Indraprastha Branch in the field of music and dance. Mrs. Savita Kripalani of Surya Nagar branch and Mrs. Parul Sharma of Indraprastha branch – who provides Consultancy Services under the name Study Seven seas for students wishing to pursue medical studies abroad – were honored as Best Co-Ordinator. Suryanagar and Indraprastha branches were awarded with Best Branch awards in various fields.

Members of all the branches and members of the Delhi Gynaecologist Forum presented colourful programs. The most attractive program was the classical dance of Amropali Gupta’s two disciples, Anupriya Sharma and Sanwari Singh.

Dr. Purnima Sharma

 

bookmark_borderInternational Women’s Day Award Ceremony 

International Women’s Day Award Ceremony 

8th March 2020

Kathak Guru Ms Prerana Shreemali
Kathak Guru Ms Prerana Shreemali

 

 

 

 

International Women’s Day Legendary Award – Kathak Guru Ms. Prerana Shreemali 

 

 

 

 

Dr. Dipti Nabh
Dr. Dipti Nabh

 

 

 

International Women’s Day Excellence Award – Dr. Dipti Nabh 

 

 

 

 

 

Mrs. Amropali Gupta
Mrs. Amropali Gupta

 

 

 

International Women’s Day Excellence Award – Mrs. Amropali Gupta

 

 

 

 

 

Ms. Yogita Bhayana
Ms. Yogita Bhayana

 

 

 

 

International Women’s Day Excellence Award – Ms. Yogita Bhayana

 

 

 

 

 

 

bookmark_borderReport of Women’s Day Program

Report of Women’s Day Program

आठ मार्च को अईपैक्स भवन पटपरगंज में WOW India और DGF के द्वारा अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर रंगारंग कार्यक्रम के बीच Award Ceremony का आयोजन किया गया | कार्यक्रम का विषय था महिलाओं की सुरक्षा और इसी विषय पर एक छोटे से संवाद के साथ WOW India के सदस्यों ने कार्यक्रम का आरम्भ किया |

Dr. Purnima Sharma
Dr. Purnima Sharma

WOW India की सेक्रेटरी जनरल डॉ पूर्णिमा शर्मा के कॉन्सेप्ट स्क्रिप्ट को WOW India की कल्चरल सेक्रेटरी लीना जैन के निर्देशन में प्रेसीडेंट डॉ एस लक्ष्मी देवी के साथ मिलकर बानू बंसल, डॉ रूबी बंसल, डॉ प्रिया कपूर, डॉ दीपिका कोहली, डॉ रश्मि जैन, डॉ इंदु त्यागी, सरिता रस्तोगी और सुषमा अग्रवाल ने बड़े अच्छे से पूर्ण ऊर्जा के साथ प्रस्तुत किया | उसके बाद WOW India की Chairperson डॉ शारदा जैन ने महिला सशक्तीकरण के विषय में अपने विचार व्यक्त किये और WOW India की President डॉ एस लक्ष्मी देवी ने WOW India की आरम्भ से लेकर अभी तक की यात्रा के विषय में दर्शकों को अवगत कराया | कार्यक्रम का सफल संचालन लीना जैन ने किया |

कार्यक्रम का मुख्य आकर्षण था परम पूज्या दीदी माँ साध्वी ऋतम्भरा जी को सुनना | दीदी माँ ने वैदिक काल से लेकर रामायण महाभारत काल से होते हुए आधुनिक काल तक की नारियों की यात्रा के सारगर्भित वर्णन के साथ ही महिलाओं को सुझाव भी दिया कि हमें अपने घर में बच्चों को संस्कारित करने की आवश्यकता है ताकि महिलाओं के साथ दिन प्रतिदिन होते रहने वाले अपराधों में कभी तो कमी आए | दीदी माँ का कहना था कि सदा लड़कियों को ही क्यों टोका जाता है उनके वस्त्रों के लिए, उनके कार्य के लिए ? इसके बजाए आवश्यकता है हमें अपने परिवारों में बचपन से ही संस्कारों की डालने की ताकि ऐसी कोई समस्या ही उत्पन्न न हो, और एक माँ इस कार्य को जितनी दृढ़ता तथा भावुकता के साथ कर सकती है उतनी दृढ़ता और भावुकता के साथ कोई अन्य इस कार्य को नहीं कर सकता |

कार्यक्रम में जयपुर घराने की विश्व प्रसिद्ध कत्थक नृत्यांगना सुश्री प्रेरणा श्रीमाली को शास्त्रीय नृत्य के क्षेत्र में उनके अभूतपूर्व योगदान के लिए Women’s Day Legendary Award से सम्मानित किया गया | संगीत जैसी कलाओं के क्षेत्र में आज के युग में भी संगीत प्रशिक्षण के महत्त्वपूर्ण अंग “गुरु-शिष्य परम्परा” को जीवित बनाए रखने वाले कुछ प्रसिद्ध गुरुओं में प्रेरणा जी की गणना की जाती है | इस अवसर पर बोलते हुए प्रेरणा जी का भी यही प्रश्न था कि विश्व की आधी आबादी यानी महिलाओं को पुरुषों से कम करके क्यों आँका जाता है ? अभी भी क्यों बहुत से स्थानों पर लड़कियों के शाम के बाद घर से बाहर निकलने पर रोक लगा दी जाती है ? और यदि उन्हें जाना भी हो भाई साथ में जाएगा – भले ही वह भाई उनसे दस बरस छोटा ही क्यों न हो ? वास्तव में ये ऐसे ज्वलन्त प्रश्न हैं कि इनके उत्तर तो हम सबको मिलकर खोजने ही होंगे |

इसके अतिरिक्त महिलाओं के स्वास्थ्य के क्षेत्र में सराहनीय योगदान के लिए अत्यन्त योग्य डॉ दीप्ति नाभ को Excellence Award से सम्मानित किया गया | डॉ नाभ Senior Consultant Obstetrician & Gynaecologist & Infertility Expert हैं |

सुश्री योगिता भयाना को समाज सेवा के क्षेत्र में उनके द्वारा किया जा रहे महिलाओं से सम्बन्धित कार्यों के लिए – विशेष रूप से बलात्कार से पीड़ित महिलाओं के लिए जो कार्य वे कर रही हैं उसके लिए – Excellence Award से सम्मानित किया गया | सुश्री भयाना ने हाल ही में UN में अपील की है कि निर्भया काण्ड के चारों दरिन्दों को जिस दिन फाँसी पर लटकाया जाएगा उस दिन को अन्तर्राष्ट्रीय महिला सुरक्षा दिवस के रूप में मनाए जाने की घोषणा की जाए |

संगीत और कला के क्षेत्र में Excellence Award दिया गया प्रसिद्ध उड़ीसी नृत्यांगना आम्रपाली गुप्ता जी को जिन्हें नृत्य की विधा परम्परागत रूप में विरासत में अपनी पूज्या माता जी से प्राप्त हुई |

इनके अतिरिक्त कुछ Appreciation Awards भी दिए गए | जिनमें: डॉ मीनाक्षी शर्मा को स्वास्थ्य के क्षेत्र में, योजना विहार शाखा की श्रीमती बिमलेश अग्रवाल, इन्द्रप्रस्थ शाखा की श्रीमती सुनीता अरोड़ा और अईपैक्स ब्रांच की श्रीमती वन्दना वर्मा को समाज सेवा के क्षेत्र में, सूर्य नगर ब्रांच की श्रीमती रेखा अस्थाना को शिक्षा के क्षेत्र में तथा इन्द्रप्रस्थ ब्रांच की ही श्रीमती राजेश्वरी भार्गव को संगीत और नृत्य के क्षेत्र में Appreciation Awards से सम्मानित किया गया | सूर्य नगर ब्रांच की श्रीमती सविता कृपलानी और इन्द्रप्रस्थ ब्रांच की Study Seven seas नाम से विदेशों में मेडिकल के पढ़ाई के इच्छुक विद्यार्थियों के लिए Consultancy Services देने वाली श्रीमती पारुल शर्मा को Best Coordinator के रूप में सम्मानित किया गया | सूर्यनगर तथा इन्द्रप्रस्थ शाखाओं को विभिन्न क्षेत्रों में बेस्ट ब्रांच का अवार्ड दिया गया |

सभी ब्रान्चेज़ की सदस्यों ने तथा Delhi Gynaecologist Forum की मेम्बर्स ने रंगारंग कार्यक्रम प्रस्तुत किये जिन्हें देखकर खचाखच भरे हॉल में दर्शकगण भी झूमे बिना न रह सके | सबसे आकर्षक कार्यक्रम रहा आम्रपाली गुप्ता जी की दो शिष्याओं अनुप्रिया शर्मा और साँवरी सिंह के शास्त्रीय नृत्य जिनमें आम्रपाली जी के ही नृत्य की झलक देखने को मिली |

खाना और चाट तो स्वाद थी ही जिसका सभी ने लुत्फ़ उठाया | कुल मिलाकर कार्यक्रम बेहद उल्लासमय, उत्साहमय और सफल रहा | 

डॉ पूर्णिमा शर्मा

bookmark_borderHappy Women’s Day

Happy Women’s Day

अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस की सभी को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ

सारी की सारी प्रकृति ही नारीरूपा है – अपने भीतर अनेकों रहस्य समेटे – शक्ति के अनेकों स्रोत समेटे – जिनसे मानवमात्र प्रेरणा प्राप्त करता है… और जब सारी प्रकृति ही

Dr. Purnima Sharma
Dr. Purnima Sharma

शक्तिरूपा है तो भला नारी किस प्रकार दुर्बल या अबला हो सकती है ?

आज की नारी शारीरिक, मानसिक, अध्यात्मिक और आर्थिक हर स्तर पर पूर्ण रूप से सशक्त और स्वावलम्बी है और इस सबके लिए उसे न तो पुरुष पर निर्भर रहने की आवश्यकता है न ही वह किसी रूप में पुरुष से कमतर है |

पुरुष – पिता के रूप में नारी का अभिभावक भी है और गुरु भी, भाई के रूप में उसका मित्र भी है और पति के रूप में उसका सहयोगी भी – लेकिन किसी भी रूप में नारी को अपने अधीन मानना पुरुष के अहंकार का द्योतक है | हम अपने बच्चों को बचपन से ही नारी का सम्मान करना सिखाएँ चाहे सम्बन्ध कोई भी हो… पुरुष को शक्ति की सामर्थ्य और स्वतन्त्रता का सम्मान करना चाहिए…

देखा जाए तो नारी सेवा और त्याग का जीता जागता उदाहरण है, इसलिए उसे अपने सम्मान और अधिकारों की किसी से भीख माँगने की आवश्यकता नहीं…

अन्तर्राष्ट्रीय महिला दिवस की सभी को हार्दिक बधाई और शुभकामनाएँ – इस आशा और विश्वास के साथ कि हम अपने महत्त्व और प्रतिभाओं को समझकर परिवार, समाज और देश के हित में उनका सदुपयोग करेंगी…

इसी कामना के साथ सभी को आज का शुभ प्रभात…

मुझमें है आदि, अन्त भी मैं, मैं ही जग के कण कण में हूँ |

है बीज सृष्टि का मुझमें ही, हर एक रूप में मैं ही हूँ ||

मैं अन्तरिक्ष सी हूँ विशाल, तो धरती सी स्थिर भी हूँ |

सागर सी गहरी हूँ, तो वसुधा का आँचल भी मैं ही हूँ ||

मुझमें है दीपक का प्रकाश, सूरज की दाहकता भी है |

चन्दा की शीतलता मुझमें, रातों की नीरवता भी है ||

मैं ही अँधियारा जग ज्योतित करने हित खुद को दहकाती |

और मैं ही मलय समीर बनी सारे जग को महका जाती ||

Happy Women's Day
Happy Women’s Day

मुझमें नदिया सा है प्रवाह, मैंने न कभी रुकना जाना |

तुम जितना भी प्रयास कर लो, मैंने न कभी झुकना जाना ||

मैं सदा नई चुनती राहें, और एकाकी बढ़ती जाती |

और अपने बल से राहों के सारे अवरोध गिरा जाती ||

मुझमें है बल विश्वासों का, स्नेहों का और उल्लासों का |

मैं धरा गगन को साथ लिये आशा के पुष्प खिला जाती ||

डॉ पूर्णिमा शर्मा 

 

 

 

 

bookmark_borderGreetings from our chairperson

Greetings from our chairperson

friends..,

Take one minute.. & spell your USP

Dr. Sharda Jain
Dr. Sharda Jain

Your special point..

We don’t stop dreaming and exploring because we grow old.

I strongly believe  ..We grow old because we stop dreaming and exploring… How to help others, my colleagues, my friends

My fundas are 3

Remain student alway. Curiosity to learn should never die… Otherwise u will atrophy fast.

put your 100 percent.enjoy what u do. It should be calling, passion.

Give helping hand to younstees & colleagues… & leave 🍁🍀🍂🍁🍀 a legacy… Jo mahakti rahe..

Aisee chaap  jo mitaye se bhee na mite

🙏 my blessings 👼🙏❤ & pranam on this great day

Sharda

bookmark_borderRecipe of Gujhiya

Recipe of Gujhiya

गुझिया बनाने की विधि

आज आमलकी एकादशी है – जिसे हम सभी रंग की एकादशी के नाम से जानते हैं – सर्व प्रथम सभी को रंग की एकादशी की हार्दिक शुभकामनाएँ…

यों तो होली का त्यौहार फाल्गुन शुक्ल पञ्चमी यानी रंग पञ्चमी से ही आरम्भ हो जाता है, लेकिन रंग की एकादशी से तो जैसे होली की मस्ती अपने पूर्ण यौवन पर आ जाती है | लेकिन इस वर्ष इस मस्ती में कोरोना वायरस ने सेंध लगाई हुई है जिसके कारण हर कोई भयभीत है | लेकिन कोरोना वायरस से घबराने और डरने के स्थान पर इसके बारे में सही जानकारी प्राप्त करें, अपनी जीवन शैली में सुधार करें और सावधानी बरतें तो इसके दुष्प्रभाव से बचा जा सकता है |

इसके लिए सबसे पहली आवश्यकता है अपने आसपास और घर में सफाई रखने की, कुछ देर के लिए धूप में बैठने की तथा कपड़ों को धूप में सुखाने की सलाह एक्सपर्ट्स दे रहे हैं | कुछ और सुझाव भी समाचारों के माध्यम से प्राप्त हो रहे हैं, जैसे: हाथों को कई बार साफ़ करें और हैण्ड सेनीटाईज़र का प्रयोग अधिक से अधिक करें, हर पन्द्रह मिनट में थोड़ा सा गुनगुना पानी अवश्य पी लें, आइसक्रीम, कोल्डड्रिंक, ठण्डी छाछ या लस्सी इत्यादि का सेवन न करें, घर का पका सन्तुलित आहार लें और जैसा सभी आयुर्वेद को जानने वाले बता रहे हैं – तुलसी-लौंग-हल्दी-अदरख का काढ़ा या गिलोय का काढ़ा का सेवन करें | साथ में विटामिन सी से युक्त फलों जैसे संतरा, मौसमी, आँवला, नीम्बू इत्यादि के सेवन करते रहें | साथ ही रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने के लिए अनुलोम विलोम तथा कपाल भाति प्राणायाम करें और निश्चिन्त होकर होली की मस्ती में झूम उठें |

तो, त्यौहार मनाएँ – लेकिन सावधानीपूर्वक – एक्सपर्ट्स के सुझावों को मानकर | क्योंकि इस कोरोना वायरस से डरकर होली की गुझिया यदि नहीं खाईं तो होली की जिस मस्ती का साल भर से इंतज़ार कर रहे थे उस मस्ती में मिठास कहाँ से घुलेगी ? तो आइये, अर्चना गर्ग से सीखते हैं गुझिया बनाने की विधि – रेखा अस्थाना की रंगों से भरी कविता के साथ – जिसमें एक विरहिणी नायिका का चित्रण बड़ी ख़ूबसूरती से किया गया है…

डॉ पूर्णिमा शर्मा

 

तो सबसे पहले गुझिया की मिठास

सामग्री…

मैदा 250 ग्राम

घी 500 ग्राम  तलने हेतु

चीनी 150 ग्राम  पीसी हुई

मावा 150 ग्राम

मेवा चिरौंजी, किशमिश, छोटी इलायची पीसी हुई

विधि…

मैदा में दो कलछुल घी डालकर मिला लें । जब हाथ में दबाने से लड्डू बंधने लगे तो गुनगुने पानी से मैदा को गूंध लें।

मावे को कढ़ाई में भूने गुलाबी होने तक । उसमें पीसी चीनी व मेवे मिलाएँ, इलायची पाउडर चुटकी भर मिलाएँ।

Archana Garg
Archana Garg

मैदा की छोटी छोटी लोई लेकर पूड़ी का आकार दें । उसमें मावे का मिक्शचर भरें । गुझिया की आकृति दें । उसको अच्छी तरह पानी से बंद करें । किनारा गोठें या गुजिया कटर से किनारा बंद करें । सबको सूती कपड़े से ढककर रखें ।

घी को कढ़ाई में गरम करें फिर आँच धीमी करें । पाँच या छः गुझिया को एक साथ तलें । हल्का गुलाबी होने तक तलें । प्लेट में निकालें । ठण्डा होने पर ही डिब्बे में बंद करें ।

गुझिया को आप चाहे तो पाग भी सकती हैं । इसके लिए गुझिया को बनाने के बाद आधी तार की चाशनी में केसर पिश्ता डाल कर उसमें गुजिया पाग ले ।

ध्यान रहे यदि आप गुजिये को पाग रही हैं तो अन्दर फिलिंग में चीनी कम डालें ।

        अर्चना गर्ग

 

 

पिया बिन फाग अधूरा रे….

क्यों गये पिया परदेस रे, सखी क्यों गये पिया परदेस रे ||

ठंडक ने ली करवट तो पुलकित हो उठी धरा,

कुसुमित हो उठे विटप सब टेसू ने सुन्दरता फैलाई रे ।

सखी क्यों गये पिया परदेस रे ||

सरसों फूली देखकर मन में उठे हूक रे ।

सखी क्यों गये पिया परदेस रे ||

सुन कोयल की कूक को मन मेरा क्यों घबराए रे ।

सखी क्यों गये पिया परदेस रे ||

बिना पिया मुस्कान के होली का सब रंग फीका रे ।

Rekha Asthana
Rekha Asthana

सखी क्यों गये पिया परदेस रे ||

पूआ गुजिया की मिठास भी मुझको लागे कड़वी रे ।

सखी क्यों गये पिया परदेस रे ||

पिया मिलन की आस से हुए गुलाबी सब सपने रे |

सखी क्यों गये पिया परदेस रे ||

सखी पिया बिन फाग अधूरा रे ||

रेखा अस्थाना

 

bookmark_borderAdopt healthy lifestyle

Adopt healthy lifestyle

 Today’s Lifestyle is a Disease in itself

In India over the year with technology advancement and westernization there is tremendous change in life style of general population due to which life style diseases like diabetes, blood pressure, heart disease etc. are increasing:

Dr. Ruby Bansal
Dr. Ruby Bansal

There is an old proverb that says ‘prevention is better than cure.’ It is wiser to avoid a disease by following a healthy regimen of life than to contract it, and then seek remedies. Life is short, and, if a considerable part of it is taken up in inviting or not knowing diseases and then curing them, how will man manage to live a life worth the name? Every effort should be made to prevent health, troubles and difficulties.

In a recent few studies the largest disease burden or DALY rate increase from 1990 to 2016 was 80 percent for diabetes and 34 percent for ischemic heart disease. Another study published in the international journal Pediatric Obesity in October predicted that India would have over 17 million obese children by 2025 and would stand second among the 184 countries fighting childhood obesity. In a study by Imperial College London, pegged the number of people with high blood pressure to around 1.13 billion, of which around 200 million are Indians.

WHERE WE ARE:

  • Over 61 per cent of all deaths in India are due to lifestyle or non-communicable diseases (NCDs).
  • 26 per cent of all deaths in India happen due to cardiovascular diseases.
  • Every 12th Indian is said to be a diabetic.
  • 7 per cent of women and 18.6 per cent of men have been found to be overweight or obese.
  • More than 10 per cent of the country’s population over the age of 18 suffers from various kinds of mental illnesses
  • More than 1.73 million new cancer cases are likely to be recorded each year by 2020 in India. 
  • 25-40 million people in India could be suffering from food allergies.
  • India had an estimated 22.2 million chronic COPD patients and around 35 million chronic asthma patients in 2016

What all is needed: There is a need of self-realization, sensitization about health, lifestyle, and happiness. People need to look into their living, thinking, eating habits and sedentary life style stress full mind etc and its correction. There should be a “me” time in everyone’s life which means first to give time to yourself then to others if you are healthy then only be able to take care of your responsibilities, family and work.

Healthy Lifestyle
Healthy Lifestyle

Adopt healthy habits:

  • Regular brisk walk/exercise/ dancing /aerobics/yoga etc…
  • Balanced timely diet which includes right proportion of proteins, carbohydrates, fats, vitamins & minerals
  • Avoid junk food /aerated drinks
  • Avoid smoking /alcohol
  • Socialization with friends and family
  • Good sleep
  • Meditation

Dr Ruby Bansal